हमारे संत

ध्यानपूर्वक इच्छाओं के निर्वहन से सिद्ध होंगे वांछित मनोरथ, मिलेगा आत्मज्ञान

jaggi vashudev

अगर आप इसके बारे में जागरूक नहीं हैं, तो मैं यह बताना चाहूँगा कि 90 प्रतिशत लोगों के लिए उनके आत्मज्ञान प्राप्त करने का वक्त और उनके शरीर छोडने का वक्त एक ही होता है। केवल वही लोग जो शरीर के दाँव-पेंच जानते हैं, जो इस शरीर रूपी यंत्र के ...

Read More »

चित्र नहीं चरित्र की पूजा करें : बाबा रामदेव

baba-ramdev

प्रसन्नता अंदर से आती है, ना कि बाहर से।  बुढ़ापा कोई उम्र नहीं है, यह तो हमारी सोच का परिणाम है। विचारों में शुद्धीकरण ही मात्र एक नैतिकता है। आरोग्य हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है। विचारों और विश्वास में शुद्धता व नियंत्रण ही सफलता की  बाधा  है। कर्म ही मेरा धर्म ...

Read More »

कोई मूर्तिवाला प्रभु नहीं है, जीवन ही है वास्तविक प्रभु :ओसो

ओसो संत

ध्यान की गहराइयों में वह किरण आती है, वह रथ आता है द्वार पर जो कहता है : सम्राट हो तुम, परमात्मा हो तुम, प्रभु हो तुम, सब प्रभु है, सारा जीवन प्रभु है। जिस दिन वह किरण आती है, वह रथ आता है, उसी दिन सब बदल जाता है। ...

Read More »

कैसे हो भक्ति की ओर केन्द्रित,जिससे हो परमानंद की अनुभूति

sri sri ravi sankar

सम्पूर्ण जीवन में आनंद की खोज में लगे रहने से भी जब लाभ न मिले तो व्यक्ति को भक्ति की ओर केन्द्रित होना चाहिए। अपने पूरे जीवन काल में लोग छोटी छोटी चीजों को पाने की कामना करते हैं जैसे पदोन्नति, और अधिक से अधिक धन या संतोषजनक रिश्ता, लेकिन ...

Read More »

उमंग कुमार ने किया ऐलान, हिट होगी संजय की गाई गणेश आरती

उमंग कुमार

मुंबई | अभिनेता संजय दत्त अपनी आगामी फिल्म ‘भूमि’ के लिए एक गणेश आरती रिकॉर्ड कर रहे हैं। फिल्म के निर्देशक उमंग कुमार का कहना है कि उन्हें पूरा विश्वास है कि यह हिट साबित होगी। उमंग ने यह विचार कैसे आया, इस बारे में सोमवार को यहां बताया, “असल में ...

Read More »

शूटिंग के वक्त घायल हुए परम सिंह

परम सिंह

मुंबई | टेलीविजन धारावाहिक ‘गुलाम’ में रंगीला की भूमिका में नजर आ रहे अभिनेता परम सिंह हाथ में चोट लगने के चलते अस्पताल में भर्ती हैं। दरअसल, मारधाड़ वाले दृश्यों की शूटिग के दौरान परम के हाथों पर कांच लग गया। उल्लेखनीय है कि 10 जून को हादसे के बाद परम ...

Read More »

मनुष्‍य जन्‍म से अपराधी नही होता

अपराध

मोरारी बापू ने कहा कि आदमी तीन प्रकार के अपराध करता है एक आदतवश, दूसरा अनचाहा तथा तीसरा मुढ़ता के कारण। उन्होने कहा कि अगर आदमी की मानसिकता सत्य की उपासना वाली हो तो परमात्मा सभी मजबूरियां मिटा देता है। असत्य आता है तो प्रेम का प्रवाह अवरूद् हो जाता ...

Read More »

शरीर को बांधकर रखता है सांस का धागा

सांस

सांस वो धागा है, जो आपको शरीर से बांध कर रखता है। अगर मैं आपकी सांसें ले लूं तो आपका शरीर छूट जाएगा। यह सांस ही है, जिसने आपको शरीर से बांध रखा है। जिसे आप अपना शरीर और जिसे ‘मैं’ कहते हैं, वे दोनों आपस में सांस से ही ...

Read More »

अपने-आप में भी तलाशें ईश्वरत्वः श्री श्री रविशंकर

ईश्वरत्व

एक विचार को विचार के रुप में ही देखें, एक भावना को भावना के रुप में ही देखे तब आप खुल जायेगें अपने आप में ईश्वरत्व को देख पायेंगे। देखना इन्हें अलग-अलग परिणाम देता है। जब आप नकारात्मकता को देखते हैं तो ये तुरंत समाप्त हो जाती है और जब ...

Read More »

प्रारब्‍ध को देखकर मृत्‍यु को पहचानें: अोशो

मृत्‍यु

मृत्‍यु को दो प्रकार से जाना जा सकता है। या तो प्रारब्‍ध को देखकर या फिर कुछ लक्षण और पूर्वाभास है जिन्‍हें देखकर जाना जा सकता है। उदाहरण के लिए, जब कोई व्‍यक्‍ति मरता है तो मरने के ठीक नौ महीने पहले कुछ न कुछ होता है। साधारणतया हम जागरूक ...

Read More »
LIVE TV