प्रेम कोई भावना नहीं है, यह आपका अस्तित्व है: श्री श्री रविशंकर

मैं आपको बताता हूँ, आपके अन्दर एक परम आनंद का फव्वारा है, प्रसन्नता का झरना है। आपके मूल के भीतर सत्य, प्रकाश और प्रेम है, वहां कोई अपराध बोध नहीं है, वहां कोई डर नहीं है।

sri-ravi-shankar

मनोवैज्ञानिकों ने कभी इतनी गहराई में नहीं देखा। जिसे तुम चाहते हो उससे प्रेम करना नगण्य है। किसी से इसलिए प्रेम करना क्योंकि वह तुमसे प्रेम करता है यह महत्वहीन है। किसी ऐसे से प्रेम करना जिसे तुम नहीं चाहते, मतलब तुमने जीवन से कुछ सीखा है।

किसी ऐसे से प्रेम करना जो तुमसे घृणा करे यह दर्शाता है की तुमने जीवन जीने की कला सीख ली भरोसा रखना कि वहाँ आपकी कमजोरी को दूर करने के लिए कोई बैठा है। ठीक है, आप एक बार सोते हो, दो बार, तीन बार। ये कोई मायने नही रखता, मायने तो सिर्फ आपका आगे बढ़ना रखता है। इसीलिए कमजोरियों की चिंता किये बिना ही सतत आगे बढ़ते रहे।

यह भी पढ़ें:कम तीव्रता की अल्ट्रासाउंड तरंगें जल्द ठीक करेंगी डिमेंशिया और अल्जाइमर, जानकर हो जाएंगे हैरान

प्रेम कोई भावना नहीं है, यह आपका अस्तित्व है। दूसरों को सुनो फिर भी मत सुनो। अगर तुम्हारा दिमाग उनकी समस्याओं में उलझ जाएगा तो फिर ना सिर्फ वो दुखी होंगे बल्कि तुम भी दुखी हो जाओगे।

बुद्धिमान वो हैं जो औरों की गलती से सीखता है। थोड़ा कम बुद्धिमान वो है जो सिर्फ अपनी गलती से सीखता है। मूर्ख एक ही गलती बार-बार दोहराते रहते हैं और उनसे कभी सीख नहीं लेते।

यह भी पढ़ें:सिर्फ इस आसन को करने से दुनिया की सभी बीमारियां रहती हैं दूर, मिलते हैं अनेकों लाभ

चाहत या इच्छा तब पैदा होती है, जब आप खुश नहीं होते, क्या आपने देखा है? जब आप बहुत खुश होते हैं तब संतोष होता है, संतोष का अर्थ है कोई इच्छा ना होना।

यह भी देखें:-

=>
LIVE TV