यूपी बोर्ड: सख्ती के डर से 6 लाख से ज्यादा विधार्थियों ने छोड़ी परीक्षा

लखनऊ। यूपी बोर्ड की परीक्षाएं 6 फ़रवरी से शुरू हो चुकी हैं। वहीँ योगी सरकार ने इस बार नकलविहीन परीक्षा कराने के कड़े इंतज़ाम किए हैं। इस सख्ती की वजह से परीक्षा के पहले 3 दिनों में ही 633217 से ज्यादा छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी।

यूपी बोर्ड

इनमें हाईस्कूल के 379782 और इंटरमीडिएट के 253435 परीक्षार्थी शामिल हैं। जितनी तेजी से ये आकड़े बढ़ते जा रहे हैं उन्हें देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि परीक्षा समाप्ती तक यह आकंड़ा साढ़े सात लाख के पार जा सकता है।

बोर्ड परीक्षा छोड़ने वाले परीक्षार्तियों की संख्या जहां लगातार बढ़ रही है वहीं नकल में पकड़े जाने वाले परीक्षार्तियों की संख्या में कमी आई है। गौरतलब है कि अभी तक परीक्षा में नक़ल करते हुए 182 से ज़्यादा नकलची पकड़े जा चुके हैं।

जानिए इस बार के कड़े इंतजाम-

इस वर्ष परीक्षा केंद्र का निर्धारण ऑनलाइन किया गया है। 50 संवेदनशील जिलों में कोड वाली कॉपियां भेजी गई हैं। परीक्षार्थी का कॉपी कोड उपस्थिति पंजिका पर लिखा जाएगा।

सभी परीक्षा केन्द्रों पर सीसीटीवी का इंतजाम है।

परीक्षा के दौरान एसटीएफ जैसी विशेषज्ञ एजेंसी की मदद ली जा रही है।

जिला विद्यालय निरीक्षकों को गोपनीय सूचनाएं देने के लिए एलआईयू का इस्तेमाल किया गया।

सामूहिक नकल पकड़े जाने पर डीएम तथा विभागीय अधिकारी जिम्मेदार माने जाएंगे।

=>
LIVE TV