महामिलावटी मुझे गिराकर मजबूर व अस्थिर सरकार बनाना चाहते हैं-मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी ने शनिवार को यूपी और बिहार की सभाओं में कांग्रेस, सपा-बसपा सहित विपक्षी दलों पर हमला बोला। उन्होंने कहा, ये महामिलावटी मुझे गिराकर मजबूर व अस्थिर सरकार बनाना चाहते हैं। चार चरणों के बाद महामिलावटियों को समझ में नहीं आ रहा है, कि कौनसा खेल खेला जाए।

मोदी

प्रियंका गांधी वाड्रा पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा, कांग्रेस नेता अब खुद मानने लगे हैं कि उनकी पार्टी वोटकटवा है, जबकि नामदार पीएम बनने का सपना देख रहे हैं। मजबूरी, अवसरवाद की महामिलावट का पंजा बहुत खतरनाक है। मायावती पर कहा, उनकी सरकार में ताजमहल के सौदे होते थे। अखिलेश को आड़े हाथों लेते हुए बोले, उन्होंने तो बालू, बजरी के साथ टोंटी तक नहीं छोड़ी।

मोदी ने कहा, इन लोगों ने देश को लूटा और कहते हैं जांच करा लो। इनके खिलाफ जितने भी मामले हैं, सब में बीस-बीस नोटिस भेजे गए हैं, लेकिन न तो ये खुद आते हैं न इनके वकील। मामले दबाने के लिए अपनी सरकार आने का इंतजार कर रहे हैं। पीएम ने कहा, नामदार कान खोलकर सुन लो, मोदी सोने का चम्मच लेकर पैदा नहीं हुआ है। ये भारत माता की धूल फांककर बड़ा हुआ है।

लखीमपुर खीरी का राजनीतिक गणित समझने के लिए जानने पड़ेगा जातियों का समीकरण… पढ़ें खबर

मुझे गिराने में लोग कई बार गिरे 
पीएम ने प्रतापगढ़ की जनसभा में कांग्रेस, सपा-बसपा पर हमला बोला। किसी का नाम लिए बिना तंज कसते हुए कहा, न मैं गिरा, न मेरी उम्मीदों के मीनार गिरे, पर कुछ लोग मुझे गिराने में कई बार गिरे।

गठबंधन के पांच खतरे बताए 
पीएम ने कहा, गठबंधन के इस महामिलावट के पांच भयानक खतरे हैं- भ्रष्टाचार, अस्थिरता, जातिवाद, वंशवाद और कुशासन। महामिलावट और अस्थिरता एक दूसरे के पर्याय हैं। कांग्रेस, सपा और बसपा के नेता हर चीज में लूट का रास्ता निकालते हैं।

आवारा पशुओं को बचाने में डीसीएम से हुआ हादसा, 2 युवकों की मौत

और भाजपा के पांच सिद्धांत
बस्ती में मोदी ने कहा, भाजपा बच्चों की पढ़ाई, बीमारों को दवाई, किसानों को सिंचाई, गरीबों की कमाई और पीड़ितों की सुनवाई, इन 5 सिद्धांतों के बूते सबका विकास कर रही है।

=>
LIVE TV