नवरात्रि की तृतीया पर ऐसे करें मां चंद्रघंटा की पूजा

नई दिल्‍ली। नवरात्रि का तीसरा दिन मां चंद्रघंटा का माना जाता है। इस दिन मां चंद्रघंटा की पूजा होती है। मां चंद्रघंटा को शांति और कल्याणकारी का प्रतीक माना जाता है। योग साधना कर रहे साधक के लिए यह दिन बहुत महत्वपूर्ण होता है। इस दिन साधक का मन मणिपूर चक्र में प्रविष्ट होता है।

चंद्रघंटा की पूजा

नवरात्रि के तीसरे दिन करें इस मंत्र का जाप

तीसरे दिन पूजा के दौरान इस मंत्र का उच्चारण करने से मां चंद्रघंटा खुश होती हैं। भक्तों पर अपनी असीम कृपा बरसाती हैं।

या देवी सर्वभूतेषु मां चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

इस मंत्र का अर्थ है, देवी ने चन्द्रमा को अपने सिर पर घण्टे के सामान सजा रखा है। उस महादेवी, महाशक्ति चन्द्रघंटा को मेरा प्रणाम।

यह भी पढ़ें: धीरे-धीरे आपके दिमाग को खा रही है यह बीमारी, एक साथ इतनी मानसिक बीमारियों का बनती है कारण

नवरात्रि के तीसरे दिन की पूजा की विधि-

तीसरे दिन की पूजा का विधान भी लगभग उसी प्रकार है, जो दूसरे दिन की पूजा का है। इस दिन भी आप सबसे पहले कलश और उसमें उपस्थित देवी-देवता, तीथरें, योगिनियों, नवग्रहों, की पूजा अराधना करें फिर माता के परिवार के देवता, गणेश, लक्ष्मी, विजया, कार्तिकेय, देवी सरस्वती, एवं जया नामक योगिनी की पूजा करें फिर देवी चन्द्रघंटा की पूजा अर्चना करें।

नवरात्रि के तीसरे दिन देवी चन्द्रघंटा की भक्ति से आध्यात्मिक और आत्मिक शक्ति प्राप्त होती है, जो व्यक्ति मां चंद्रघंटा की श्रद्धा एवं भक्ति भाव से पूजा करता है उसपर मां की कृपा होती है। ऐसा करने से वह संसार में यश, कीर्ति एवं सम्मान प्राप्त करता है। मां के भक्त के शरीर से अदृश्य उर्जा का विकरण होता रहता है। इससे वह जहां भी होता है वहां का वातावरण पवित्र और शुद्ध हो जाता है। इनके घंटे की ध्वनि सदैव भक्तों की प्रेत-बाधा आदि से रक्षा करती है तथा उस स्थान से भूत, प्रेत एवं अन्य प्रकार की सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं।

=>
LIVE TV