Sunday , January 22 2017
Breaking News

प्रेरक प्रसंग

प्रेरक-प्रसंग : साधु का उपदेश

प्रेरक-प्रसंग

एक संत से एक बार एक व्यक्ति मिलने आया। उसने कहा, ‘महाराज मैं बहुत पापी व्यक्ति हूं। मुझे उपदेश दीजिए।’ संत ने कहा, अच्छा एक काम करो जो तुमको अपने से पापी, ‘तुच्छ और बेकार वस्तु लगे उसे मेरे पास लेकर आओ।’ उस व्यक्ति को सबसे पहले श्वान मिला। लेकिन ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : स्वामी विवेकानंद और मां शारदा

प्रेरक-प्रसंग

जब स्वामी विवेकानंद शिकागो की धर्मसभा में बोलने के लिए आमंत्रित किया गया था। तब वह यात्रा पर जाने से पूर्व वह स्वामी रामकृष्ण परमहंस की धर्मपत्नी गुरु मां शारदा से आशीर्वाद लेने गए। चरण स्पर्श के पश्चात गुरु मां से वह बोले, ‘मुझे भारतीय संस्कृति पर बोलने के लिए ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : स्वामी विवेकानंद और मूर्ति पूजा

प्रेरक-प्रसंग

एक बार स्वामी विवेकानंद जी को एक धनी व्यक्ति ने सम्मान पूर्वक बुलाया। स्वामी जी उसके घर पहुंचे। तो धनी व्यक्ति बोला, ‘हिंदू मूर्ति पूजा करते हैं। मूर्ति पीतल, मिट्टी और पत्थर की होती है। लेकिन मैं यह सब नहीं मानता।’ विवेकानंद जी ने ने अचानक देखा कि उस धनी ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : किसी की आलोचना करने से पहले सौ बार सोच लें

प्रेरक-प्रसंग

एक समय की बात है गौतम बुद्द किसी गांव के रास्ते जा रहे थे। उन्हें देखकर गांव के कुछ लोग उनके पास आए, और उनकी वेशभूषा देख उनका उपहास और अपमान करने लगे। तथागत ने कहा, ‘यदि आप लोगों की बात समाप्त हो गई हो तो मैं यहां से जाउं। ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : कच्ची-पक्की का फ़र्क

प्रेरक-प्रसंग

उत्तर भारतीय ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी यह परंपरा है कि घर पर किसी विशिष्ट आगंतुक के आने पर रोटी सब्जी दाल चावल जैसा सामान्य भोजन न बनाकर अतिथि के सम्मान में पूरी कचौरी आदि विशेष भोजन बनाया जाता है। इसे आम बोलचाल में पक्की रसोई कहा जाता है। एक ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : बुद्ध की मूर्ति

प्रेरक-प्रसंग

बहुत पुरानी बात है कि चीन में एक बौद्ध भिक्षुणी रहती थीं। उनके पास गौतम बुद्ध की एक सोने की मूर्ति थी जिसकी वह दिन-रात पूजा करती थीं। जब चीन में महाबुद्ध उत्सव की शुरूआत हुई तो वहां कई लोग आए। वहां भिक्षुणी भी बुद्ध की मूर्ति लेकर पहुंची। बौद्ध ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : गौतम बुद्ध

प्रेरक-प्रसंग

एक समय की बात है गौतम बुद्ध किसी गांव के रास्ते जा रहे थे। उन्हें देखकर गांव के कुछ लोग उनके पास आए, और उनकी वेशभूषा देख उनका उपहास और अपमान करने लगे। तथागत ने कहा, ‘यदि आप लोगों की बात समाप्त हो गई हो तो मैं यहां से जाउं। ...

Read More »

प्रेरक -प्रसंग : चापलूस भला या आलोचक

प्रेरक -प्रसंग

अमेरिका के राष्ट्रपति ने अपने कार्यकाल में रक्षा मंत्रालय का कार्यभार एक ऐसे व्यक्ति को सौंपा जो उनका कटु आलोचक था। वह व्यक्ति लिंकन के विरूद्ध कुछ न कुछ गलत बोला करता था। जब यह बात लिंकन के दोस्त को पता चली तो उन्होंने कहा, ‘क्या आप नहीं जानते कि ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : ग्राहक और दुकानदार

प्रेरक-प्रसंग

एक बार एक ग्राहक चित्रो की दुकान पर गया । उसने वहाँ पर अजीब से चित्र देखे । पहले चित्र मे चेहरा पूरी तरह बालो से ढँका हुआ था और पैरोँ मे पंख थे। एक दूसरे चित्र मे सिर पीछे से गंजा था। ग्राहक ने पूछा – यह चित्र किसका ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : दुकानदार और बच्चा

प्रेरक-प्रसंग

एक 6 वर्ष का लड़का अपनी 4 वर्ष की छोटी बहन के साथ छोटे बाजार से जा रहा था। अचानक उसे लगा कि, उसकी बहन पीछे रह गई है। वह रुका, पीछे मुड़कर देखा, तो उसकी बहन एक खिलौने की दुकान के सामने खडी़ कोई चीज निहार रही है। लड़का ...

Read More »
LIVE TV