Thursday , January 19 2017

प्रेरक प्रसंग

प्रेरक प्रसंग : भगवान बुद्ध

प्रेरक प्रसंग

एक बार भगवान बुद्ध पाटलिपुत्र में प्रवचन कर रहे थे। लोग मंत्रमुग्ध थे। प्रवचन के पहले बुद्ध ध्यानवस्था में बैठे हुए थे। तभी स्वामी आनंद ने जिज्ञासा पूर्वक पूछा, ‘तथागत आपके सामने बैठे लोगों में सबसे ज्यादा सुखी कौन?’ तथागत बोले, सबसे पीछे जो सीधा-साधा सा फटेहाल ग्रामीण आंखे बंद ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग : युधिष्ठिर और भीम

प्रेरक प्रसंग

महाभारत युद्ध के बाद युधिष्ठिर हस्तिनापुर के राजा बने। चारों छोटे भाई सदा उनकी सेवा में लगे रहते थे। युधिष्ठिर का नियम था कि प्रतिदिन वह द्रौपदी के साथ राजमहल के मुख्य द्वार पर खड़े होते और आने वाले याचकों को उनकी अपेक्षा के अनुरूप सामग्री भेंट करते। सुबह से ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग : बुद्ध का उपदेश

गौतम बुद्ध

सर्दियों की शुरुआत थी। गौतम बुद्ध ने अपना प्रवचन देना शुरू ही किया था। उनके प्रवचन का लाभ उठाने एक व्यक्ति रोज आता और बड़े ही ध्यान से उनकी बातें सुनता था। बुद्ध अपने प्रवचन में लोभ, मोह, द्वेष और अहंकार छोड़ने की बात करते थे। यह सब छोड़कर जीवन ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग : गुण-अवगुण

प्रेरक प्रसंग

जब रीवां की गद्दी पर महाराज जोरावर सिंह जूदेव बैठे तो उन्होंने अपने राज्य में अनेक सुधार किए। यह भी कहा कि हमारा राज्य उसी धर्म का अनुयायी होगा जो सर्वमान्य और निर्दोष होगा। उन्होंने सभी धर्म और संप्रदाय के प्रमुख साधु-संतों, विद्वानों और मठाधीशों की सभा बुलाई। सभी प्रतिनिधियों ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग : सच्ची सीख

प्रेरक प्रसंग

स्वामी रामकृष्ण परमहंस के शरीर त्यागने के बाद उनके शिष्य स्वामी विवेकानंद तीर्थयात्रा के लिए निकले। देश के विभिन्न तीर्थों के दर्शन करते हुए वह काशी पहुंचे। विश्वनाथ मंदिर के पूरे भक्तिभाव से दर्शन करने के बाद जब स्वामी विवेकानंद बाहर आए तो देखा कि कुछ बंदर इधर से उधर ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग : वाणी की मधुरता

कोयल और कौवा

संस्कृत साहित्य की यह चर्चित कथा है। एक बार वसंत ऋतु में एक कोयल वृक्ष पर बैठी कूक रही थी। आते-जाते लोग उसकी कूक को सुनते और उसकी सुरीली आवाज का आनंद लेते हुए उसकी तारीफ के पुल बांधते। कुछ देर बाद कोयल के सामने एक कौआ तेज गति से ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग : सच्ची पूजा

प्रेरक प्रसंग

डेरा गाजी खान में राय साहब रघुनाथदास हकीम अपने युवा पुत्र श्यामदास के साथ रोगियों की सेवा किया करते थे। पूरा परिवार चैतन्य महाप्रभु का अनन्य भक्त था। भारत विभाजन होने के बाद उनके पूरे परिवार को डेरा गाजी खान से पलायन करना पड़ा। वहां से वह वृंदावन पहुंचे और ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग : समय का महत्‍व

प्रेरक प्रसंग

जॉर्ज बर्नार्ड शॉ अंग्रेजी के प्रसिद्ध लेखक थे। लेकिन उन्हें यह प्रसिद्धि आसानी से नहीं मिली थी। इसके लिए उन्हें बहुत संघर्ष करना पड़ा था। जैसे-जैसे उनकी रचनाओं को पाठकों की सराहना मिलती गई वैसे-वैसे वह सफलता की बुलंदियों को छूते गए। इसके बाद उन्हें आए दिन अनेक कार्यक्रमों में ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग : सफलता की राह

प्रेरक प्रसंग

बालिका विनफ्री बचपन से ही पढ़ने में अत्यंत तेज थी, लेकिन उसका जीवन दुख भरा था। उसके माता-पिता साथ नहीं रहते थे। विनफ्री अपनी मां के साथ रहती थी। मां के नौकर उसे बहुत परेशान करते थे। डर के कारण वह नौकरों के बारे में किसी को बता नहीं पाती ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग : केवल लक्ष्य पर ध्यान लगाओ

प्रेरक प्रसंग

एक बार स्वामी विवेकानंद अमेरिका में भ्रमण कर रहे थे। अचानक, एक जगह से गुजरते हुए उन्होंने पुल पर खड़े कुछ लड़कों को नदी में तैर रहे अंडे के छिलकों पर बन्दूक से निशाना लगाते देखा। किसी भी लड़के का एक भी निशाना सही नहीं लग रहा था। तब उन्होंने ...

Read More »
LIVE TV