प्रेरक प्रसंग

प्रेरक प्रसंग :क्रोध पर काबू पाना सीखें

क्रोध पर काबू पाना सीखें

एक गांव में रामू नाम का एक व्यक्ति रहता था, वह बात-बात पर चिढ़ जाता। दूसरों पर झुंझला उठता और बहुत गुस्सा किया करता था। उसके परिवार वाले उसके गुस्से को लेकर चिंतित थे। रामू जैसे-जैसे बड़ा हो रहा था, उसकी ये एक गलत आदत बनती जा रही थी। लेकिन ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : बच्चे की सीख

बच्चे की सीख

बचपन से ही मुझे अध्यापिका बनने तथा बच्चों को मारने का बड़ा शौक था। अभी मैं पाँच साल की ही थी कि छोटे-छोटे बच्चों का स्कूल लगा कर बैठ जाती। उन्हें लिखाती पढ़ाती और जब उन्हें कुछ न आता तो खूब मारती। मैं बड़ी होकर अध्यापिका बन गई। स्कूल जाने ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : दिमाग से बड़ा तजुर्बा

दिमाग से बड़ा तजुर्बा

यह जापान में प्रबंधन के विद्यार्थियों को पढ़ाया जाने वाला बहुत पुराना किस्सा है जिसे ‘साबुन के खाली डिब्बे का किस्सा’ कहते हैं। कई दशक पहले जापान में साबुन बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी को अपने एक ग्राहक से यह शिकायत मिली कि उसने साबुन का व्होल-सैल पैक खरीदा था ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : चंदन का कोयला

चंदन का कोयला

एक राजा वन भ्रमण के लिए गया। रास्ता भूल जाने पर भूख प्यास से पीड़ित वह एक वनवासी की झोपड़ी पर जा पहुँचा। वहाँ से आतिथ्य मिला जो जान बची। चलते समय राजा ने उस वनवासी से कहा- हम इस राज्य के शासक हैं। तुम्हारी सज्जनता से प्रभावित होकर अमुख ...

Read More »

प्रेरक -प्रसंग : चापलूस भला या आलोचक

चापलूस भला

अमेरिका के राष्ट्रपति ने अपने कार्यकाल में रक्षा मंत्रालय का कार्यभार एक ऐसे व्यक्ति को सौंपा जो उनका कटु आलोचक था। वह व्यक्ति लिंकन के विरूद्ध कुछ न कुछ गलत बोला करता था। जब यह बात लिंकन के दोस्त को पता चली तो उन्होंने कहा, ‘क्या आप नहीं जानते कि ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : साप और नेवला

साप और नेवला

एक व्यक्ति ने घर की रक्षा और सर्पों से बचने के लिए नेवला पाला। नेवला बड़ा स्वामिभक्त स्वभाव का था। पति−पत्नी दोनों ही किसी काम से बाहर निकल जाते तो वह पूरी तरह घर की चौकीदारी करता। एक दिन गृह स्वामिनी कुँए से जल भरने गयी। बच्चे को सोता छोड़ ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : ईश्वर पर भरोसा

ईश्वर पर भरोसा

जाड़े का दिन था और शाम होने आयी। आसमान में बादल छाये थे। एक नीम के पेड़ पर बहुत से कौए बैठे थे। वे सब बार बार काँव-काँव कर रहे थे और एक दूसरे से झगड़ भी रहे थे। इसी समय एक मैना आयी और उसी पेड़ की एक डाल ...

Read More »

प्रेरक प्रसंग : कड़वा सच

कड़वा सच

एक भिखारी था| वह न ठीक से खाता था न पीता था, जिस वजह से उसका बूढ़ा शरीर सूखकर कांटा हो गया था| उसकी एक-एक हड्डी गिनी जा सकती थी| उसकी आंखों की ज्योति चली गई थी| उसे कोढ़ हो गया था बेचारा रास्ते के एक ओर बैठकर गिड़गिड़ाते हुए ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : सफलता का श्रेय

सफलता का श्रेय

सफलता का श्रेय किसे मिले इस प्रश्न पर एक दिन विवाद उठ खड़ा हुआ। संकल्प ने अपने को, ‘बल’ ने अपने को और ‘बुद्धि’ ने अपने को अधिक महत्वपूर्ण बताया। तीनों अपनी-अपनी बात पर अड़े हुए थे। अन्त में तय हुआ कि ‘विवेक’ को पंच बना इस झगड़े का फैसला ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : भूल पर विजय

प्रेरक-प्रसंग

अपनी बहन इलाइजा के साथ एक किशोर बालक घूमने निकला। रास्ते में एक किसान की लड़की मिली। वह सिर पर अमरूदों का टोकरा रखे हुए उन्हें बेचने बाज़ार जा रही थी। इलाइजा ने भूल से टक्कर मार दी, जिससे सब अमरूद वहीं गिरकर गन्दे हो गये। कुछ फूट गये, कुछ ...

Read More »
LIVE TV