विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद छलका मां का दर्द, सरकार से लगाई गुहार…

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी कुख्यात विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से पकड़ा गया है। उसने एनकाउंटर से बचने के लिए सुनियोजित तरीके से मंदिर के प्रांगण में अपनी गिरफ्तारी दी है।

 

विकास के पकड़े जाने के बाद उसकी मां ने सरकार से जान बख्श देने की गुहार लगाई है। विकास की मां ने बताया कि वह हर साल उज्जैन के महाकाल मंदिर में जाकर भगवान के दर्शन करता था और उनका श्रृंगार करवाता था।
उन्होंने कहा कि भोले बाबा ने ही आज मेरे बेटे की जान बचाई है। इसके साथ ही उन्होंने सरकार से गुहार लगाई है कि बेटे विकास दुबे की जान बख्श दी जाए।
उज्जैन के कलेक्टर आशीष सिंह ने विकास की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए बताया है कि विकास दुबे महाकाल मंदिर जा रहा था, जब उसे सुरक्षाकर्मियों ने पहचान लिया। उन्होंने तुरंत पुलिस को सूचना दी। 

मालूम हो कि कानपुर में कुख्यात अपराधी विकास दुबे के एनकाउंटर के दौरान हुए खूनी संघर्ष में सीओ सहित पुलिस के आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। अपराधियों ने पुलिस बल को चारों ओर से घेरकर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी थी और आठ जवानों को मौत के घाट उतार दिया था। 
 
इसके बाद से ही यूपी समेत कई राज्यों की पुलिस विकास दुबे को गिरफ्तार करने के लिए दबिश दे रही थी। बीच में विकास के दिल्ली एनसीआर में छिपे होने की भी खबर आई थी, लेकिन वह एक बार फिर पुलिस को चकमा देकर भाग गया था।

मालूम हो कि 2 जुलाई को आठ पुलिसकर्मियों की निर्मम हत्या के बाद से ही विकास दुबे फरार चल रहा था। उसपर पांच लाख रुपये के इनाम की भी घोषणा की गई थी। इसके साथ ही पुलिस जगह-जगह पोस्टर लगाकर उसकी तलाश में जुटी हुई थी।

आज सुबह उज्जैन महाकाल मंदिर में उसने पूरी योजना के तहत अपनी गिरफ्तारी दी है। पहले वह सामान्य लोगों की तरह पूजा की लाइन में लगा। उसके बाद अचानक मंदिर परिसर में चिल्ला-चिल्ला कर खुद को विकास दुबे बताया।

इसके बाद मंदिर परिसर में तैनात सुरक्षा गार्ड ने उसे पकड़ लिया और पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलते ही पुलिस मंदिर पहुंची और उसे गिरफ्तार कर फ्रीगंज इलाके में कंट्रोल रूम लेकर गई।

=>
LIVE TV