जो काम पुलिस के अधिकारी नहीं कर पाएं वह काम इन आवारा कुत्तों ने कर दिखाया, जानें कैसे

पुलिस टीम पर हमला करने का आरोपी राजकीय अस्पताल में मेडिकल के समय पुलिस कर्मियों को चकमा देकर भाग गया। इस दौरान कुछ आवारा कुत्ते आरोपी के पीछे पड़ गए और पीछा कर रहे पुलिस कर्मियों ने उसे पकड़ लिया। बाद में उसे न्यायालय ने जेल भेज दिया।

आवारा कुत्तों

काशीपुर में केलाखेड़ा थाने के ग्राम रंपुरा गाजी निवासी बलवीर सिंह थाना सितारगंज में दुराचार के एक मुकदमे में आरोपी है। 22 नवंबर 2018 को केलाखेड़ा के तत्कालीन थाना प्रभारी बीसी रमोला ने पुलिस टीम के साथ आरोपी बलवीर की गिरफ्तारी के लिए ग्राम रंपुरा काजी में दबिश दी थी। इस दौरान ग्रामीणों ने पुलिस टीम पर हमलाकर आरोपी को छुड़ा लिया था।

आरोपी के पीछे आवारा कुत्ते पड़ गए

इस मामले में रंपुरा काजी निवासी रमेश समेत 16 लोगों को नामजद करते हुए सात-आठ अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। बृहस्पतिवार को केलाखेड़ा पुलिस ने रमेश को गिरफ्तार किया। थाने के एक आरक्षी और एक होमगार्ड मेडिकल कराने के लिए उसे लेकर राजकीय चिकित्सालय पहुंचे।

खौफनाक है ये इलाका! यहां पेड़ों पर लटकी गुड़िया रात को करती हैं एक दूसरे से बात…

अस्पताल में आरोपी का मेडिकल किया जा रहा था, इसी दौरान आरोपी रमेश ने दौड़ लगा दी। वह अस्पताल के सामने आम के बाग से होकर भाग गया। इसी दौरान उसके पीछे आवारा कुत्ते पड़ गए।

आरक्षी और होमगार्ड ने आरोपी का पीछा किया

उधर, आरक्षी और होमगार्ड ने भी आरोपी का पीछा किया। आवारा कुत्तों से बचने के लिए रमेश स्टेडियम के पास पुलिस ने पकड़ लिया। बाद में उसे न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया।

आरक्षी त्रिभुवन की ओर से कोतवाली में आरोपी रमेश के खिलाफ पुलिस अभिरक्षा से भागने के मामले में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

=>
LIVE TV