आईपीएल के टाइटल स्पॉन्सर बनने की रेस में पतंजलि शामिल

नई दिल्ली। योग गुरु बाबा रामदेव की कम्पनी पंतजलि एक बार फिर से चर्चा में बनी हुई है। बताया जा रहा है कि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के टाइटल स्पॉन्सर की दौड़ में पंतजलि कम्पनी भी शामिल हो गई है।
इससे पहले चीनी मोबाइल कंपनी वीवो आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सर थी। लेकिन वीवो के इस साल के लिए टाइटल स्पॉन्सर से हटने के बाद कई कम्पनिया आगे आई हैं।
वे आईपीएल का टाइटल स्पॉन्सर बनना चाहती हैं। बाबा रामदेव की कम्पनी पतंजलि भी उनमें से एक है। कंपनी की तरफ से इस बात की पुष्टि भी कर दी गई है।

पंतजलि के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने बताया कि इस साल हम आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सरशिप के बारे में सोच रहे हैं, क्योंकि हम पतंजलि ब्रांड को एक वैश्विक पटल पर ले जाना चाहते हैं।’ उन्होंने यह भी कहा कि वह भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को इसके लिए एक प्रस्ताव भेजने की तैयारी कर रहे हैं।
जबकि मार्केट एक्सपर्ट का मानना है कि एक चीनी कंपनी के विकल्प के दौर पर एक राष्ट्रीय ब्रांड के तौर पर पंतजलि का दावा बहुत मजबूत है लेकिन उनका यह भी मानना है कि उसमें एक मल्टीनैशनल ब्रांड के तौर पर स्टार पावर की कमी है।

यहां बता दें कि वीवो टाइटल स्पॉन्सशिप के लिए हर साल बीसीसीआई को 440 करोड़ रुपये का भुगतान करता है। लेकिन भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ने के कारण चीनी मोबाइल फोन निर्माता कंपनी वीवो ने इस साल टाइटल स्पॉन्सरशिप से हटने का फैसला किया है।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने भी इस पर अपनी मुहर लगा दी है। जानकारों का कहना है कि कोरोना वायरस के चलते इस समय बाजार की हालत बहुत अच्छी नहीं है इसलिए बोर्ड भी समझता है कि एक साल के लिए कोई नई कंपनी शायद वीवो जितना ही भुगतान न करे। इसलिए पतंजलि का दावा मजबूत माना जा रहा है।

=>
LIVE TV