अब डाकघर हुए और ज्यादा हाईटेक और डिजिटल, जानिए अब कैसे होगा काम

रिपोर्ट – राहुल कटियार 

डाक विभाग ने पिछले 5 से 6 सालों में काफी उपलब्धियां हासिल की हैं। ग्रामीण क्षेत्रो में त्वरित लेनदेन का विषय हो या खाता खुलवाने का झंझट अब ग्राहकों को डाकघर जाने की जरूरत नही है. बल्कि अब  डिजिटल दर्पण के जरिये इसे सीधे सेंट्रल सर्वर से जोड़ दिया गया है।

यानी जो भी ग्राहकों को लेनदेन ,मेल डिलीवरी करना हो  वह इस  दर्पण यानी डिवाइस के जरिये सीधे कर सकते हैं।

बड़े चौराहे स्थित बड़े डाक घर मे पोस्टमास्टर जनरल विनोद कुमार वर्मा ने बताया कि कोर सिस्टम इंटीग्रेशन के तहत मेल आप्रेशन को इंटीग्रेट किया जिससे यह पता चल जाएगा कि दिल्ली से कितनी स्पीडपोस्ट या रजिस्ट्री चली है या आनेवाली है.

डिजिटल डाकघर

जिसके बाद सिस्टम से ही उसे इशू किया जाता है। पोस्टमेन् की डिलीवरी हुई या नही जिसके लिए पोस्टमैन्स को एक-एक मोबाइल दिया गया है.

उस मोबाइल पर उसका सारा डाटा स्पीड पोस्ट और रजिस्ट्री का ब्यौरा  रहेगा जिससे वह डोर स्टेप जाकर उसे डिलीवर करते हुए उसे अपडेट करेगा ।

यह कार्य प्रक्रिया में है 15 दिनों के अंदर पूरी हो जाएगी। पोस्ट ऑफिस में आने वाले भविष्य में आमजनमानस के लिए जन्म प्रमाण पत्र,जाति ,आय सभी तरह  की सुविधाएं भी मिलने लगेंगी।

वही इस अवसर पर प्रवर अधीक्षक कानपुर डिविजन हिमांशु कुमार मिश्रा ने बताया की डाक विभाग ने डिजिटल इंडिया के क्षेत्र में कई और नई उपब्धियां हासिल कर ली हैं।

बताया कि डिजिटल इंडिया के तहत कानपुर परिक्षेत्र के ग्रामीण क्षेत्रों में त्वरित लेनदेन हेतु सभी 1545 डाकघर शाखाओं को दर्पण प्रोग्राम के तहत सीधे सेंट्रल सर्वर से जोड़ दिया है।

इसके लिए पोस्टमेन के पास डिवाइस रहेगी अब ग्राहक उस डिवाइस के जरिये जमा, निकासी ,मेल डिलीवरी,बुकिंग जैसी सभी काम डिजिटल माध्यम से सीधे कर सकते हैं।

कानपुर देहात के पुखरायां कस्बे में सेक्स रैकेट का खुलासा

यह कानपुर परिक्षेत्र में यह काम कर रहा है। बताया कि डिलीवरी,स्पीड पोस्ट ,रजिस्ट्री के लिए पोस्टमैन मोबाइल एप लांच किया है।

सभी पोस्टमेन्स को मोबाइल दिया गया है और पोस्टमेन अपने साथ डिवाइस ले जाएंगे और आर्टिकल कस्टमर को देंगे साथ ही डिवाइस में हस्ताक्षर भी कर सकते है जैसे ही कस्टमर हस्ताक्षर करेगा वह ऑटोमेटिक सर्वर में अपडेट हो जाएगा।

=>
LIVE TV