Friday , September 21 2018

मुस्लिम धर्मगुरु से मिल कर मोदी ने फेंका तुरुप का इक्का, सेक्युलरों की छिनी राजनीतिक रोटी

मध्य प्रदेश| इंदौर में बोहरा समाज की मस्जिद में पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी। दाऊदी बोहरा समुदाय के बीच बैठे हैं। धर्मगुरु सैफुद्दीन के प्रवचन का कार्यक्रम है। मध्यप्रदेश के इंदौर में पीएम मोदी। बता दें कि एमपी में 2 महीने बाद चुनाव भी होंगे। यह मुस्लिम समुदाय का दूसरा बड़ा कार्यक्रम है, जहां पीएम मोदी पहुंचे हैं। कार्यक्रम में शिवराज सिंह चौहान भी मौजूद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज दाऊदी बोहरा मुस्लिम समुदाय के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए इंदौर पहुंचे हैं। बोहरा समाज के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है, जब किसी प्रवचन कार्यक्रम में कोई प्रधानमंत्री शामिल हो रहा है। शिवराज सरकार ने सैफुद्दीन को राजकीय अतिथि का दर्जा दिया है।

मुस्लिम धर्मगुरु से मिल कर मोदी ने फेंका तुरुप का इक्का, सेक्युलरों की छिनी राजनीतिक रोटी

पीएम मोदी बोले- दाऊदी बोहरा समुदाय के बीच आना प्रेरणादायी है। टेक्नोलॉजी के माध्यम में देश-दुनिया में बोहरा समुदाय से लोग जुड़े हुए हैं। बोगरा समाज ने सदियों से देश दुनिया तक अमन का पैगाम पहुंचाया है। पीएम मोदी ने आगे कहा कि बोहरा समाज सबको साथ लेकर चलता है। मुझे प्रसन्नता है कि बोहरा समाज का एक-एक जन इस मिश्न से जुड़ा है। मुझे खुशी है कि बोहरा समाज पूरे विश्व को इस ताकत से अवगत करा रहा है। हमें अपने अतीत पर गर्व है। बोहरा समाज के साथ मेरा पुराना रिशता। मैं यहा अपनापन महसूस करता हूं। मेरे घर के दरवाजे आपके लिए हमेशा खुले हैं।

मुस्लिम धर्मगुरु से मिल कर मोदी ने फेंका तुरुप का इक्का, सेक्युलरों की छिनी राजनीतिक रोटी

धर्मगुरु सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन-

दूसरे धर्मगुरुओं के मुक़ाबले सैय्यदना का अपने समुदाय में एक अलग ही रुतबा है, एक तरह से वे अपने समुदाय के शासक हैं। मुंबई में अपने भव्य और विशाल आवास सैफ़ी महल में अपने विशाल कुनबे के साथ रहते हुए वे ख़ुद तो हर आधुनिक भौतिक सुविधाओं का उपयोग करते हैं, लेकिन अपने सामुदायिक अनुयायियों पर शासन करने के उनके तौर तरीक़े मध्ययुगीन राजाओं-नवाबों की तरह हैं।

यह भी पढ़ें: बाबली परियोजना मामले में, आंध्र के सीएम चंद्रबाबू नायडू के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

उनकी नियुक्ति भी योग्यता के आधार पर या लोकतांत्रिक तरीक़े से नहीं, बल्कि वंशवादी व्यवस्था के तहत होती है, जो कि इस्लामी उसूलों के अनुरूप नहीं हैं।

बोहरा समुदाय के 53वें धर्मगुरु सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर तारीफ की। उन्होंन कहा कि आज इमाम हुसैन के शहादत की याद में प्रधानमंत्री का हमारे गम में शरीक होना बड़ी बात है। इस मौके पर शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आज का दिन भारत के इतिहास में ऐतिहासिक होने वाला है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का सपना है कि 2022 तक हर किसी के सिर पर छत हो, बोहरा समाज और हमारे प्रधानमंत्री दोनों ही गरीबों के दुख दूर करने में लगे हुए हैं।

 

 

=>
LIVE TV