चीफ सेक्रेटरी विवाद: विधायक अमानतुल्ला का सरेंडर, आमने-सामने सरकार और अधिकारी

नई दिल्ली: दिल्ली में सरकार और अधिकारियों के बीच तनातनी ने नया मोड़ लिया है. मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मारपीट के आरोपी और आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला ने जामिया नगर थाने में आत्म-समर्पण किया है.

मुख्य सचिव अंशु प्रकाश

मुख्या सचिव ने अआरोप लगाया था कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आधी रात को अपने घर पर एक बैठक बुलाई थी. इस बैठक के दौरान आम आदमी पार्टी के विधायकों द्वारा उनसे मारपीट की गई.

इस घटना के बाद हरकत में आई दिल्ली पुलिस ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन को हिरासत में लिया था. तीन घंटे की पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया गया है. वीके जैन ने ही मुख्य सचिव अंशु प्रकाश को फोन कर बैठक में आने को कहा था. पुलिस ने सुबह 7 बजे महारानी बाग में उनके घर से हिरासत में लिया था. मुख्य सचिव ने जो शिकायत दर्ज करवाई है, उसमें भी वीके जैन का नाम शामिल था.

उधर, उपराज्यपाल अनिल बैजल इस मामले की रिपोर्ट गृहमंत्रालय को सौंप दी है. IAS अधिकारियों ने दिल्ली सरकार में किसी भी मंत्री के साथ बैठक में शामिल होने से मना कर दिया है.

हालांकि सीएम केजरीवाल के ऑफिस ने ऐसी किसी भी घटना से साफ इनकार किया है. चीफ सेक्रेटरी ने आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायकों पर फिजिकली असॉल्ट का आरोप लगाया था.

यह भी पढ़ें-रेप आरोपियों पर बरपा जनता का कहर, बीच बाजार में जिंदा फूंका

उन्होंने कह था कि यह सबकुछ सीएम की मौजूदगी में हुआ. दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने केजरीवाल से माफी मांगने की मांग की थी.

यह भी पढ़ें-पढ़िए घोटालेबाज विक्रम कोठारी का इतिहास, ऐसे गटके हजारों करोड़

 

=>
LIVE TV