बिहार के मुजफ्फरपुर में शुरू हुई पहली ‘बाल समाचार सेवा’

बच्चों की पहली समाचार सेवामुजफ्फरपुर। बाल दिवस के मौके पर मंगलवार को बिहार में मुजफ्फरपुर के गायघाट प्रखंड के जारंग उच्च विद्यालय में बच्चों की पहली समाचार सेवा (स्क्रैपी न्यूज सर्विस) की शुरुआत हुई। भारत में बच्चों की यह पहली समाचार सेवा बताई जा रही है। राज्य में 20 अलग-अलग न्यूज रूम स्थापित किए गए हैं। मुजफ्फरपुर (पूर्वी) के अनुमंडल अधिकारी सुशील कुमार ने इस समाचार सेवा का शुभारंभ करते हुए कहा कि चिल्ड्रेंस स्क्रैपी न्यूज सर्विस बच्चों के सर्वागीण विकास में मददगार होगा।

उन्होंने कहा, “बच्चों में इस बात की भी समझ बढ़ेगी कि किस तरह बेकार सामानों को भी उपयोगी बनाया जा सकता है। इससे उनमें आत्मविश्वास बढ़ेगा और वे अपने हुनर से नई वस्तुएं बना सकेंगे।”

उन्होंने स्वयंसेवी संस्था ‘गोइंग टू स्कूल’ के इस पहल की प्रशंसा करते हुए कहा कि ‘स्क्रैपी किड्स’ मंच के तहत इस सर्विस को सोशल वीडियो प्लेटफॉर्म यूट्यूब पर लॉन्च करने के लिए सांकेतिक तौर पर बाल दिवस का चयन किया गया। इस मौके पर उन्होंने बच्चों को उनके बेहतर भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं।

चिल्ड्रेंस स्क्रैपी न्यूज सर्विस के उद्घाटन के मौके पर दो कार्यक्रमों स्क्रैपी रेस और ग्रुप डिस्कशन का भी आयोजन किया गया।

इस कार्यक्रम के दौरान चिल्ड्रेंस स्क्रैपी न्यूज सर्विस के लिए दिल्ली से आए नितिन उपाध्याय, मिथुन कुमार, राजीव रस्तोगी, आदित्य गोयल, मिलन तिवारी और सरत चंद्रा (पटना) के साथ मुजफ्फरपुर के विकास धीर, रितेश कुमार, हेमंत कुमार, चंदा कुमारी, पिंकी कुमारी, सरोज कुमार सहित कई लोग मौजूद थे।

नितिन ने इस मौके पर बताया कि इस सर्विस के लिए राज्य के तिरहुत क्षेत्र के मुजफ्फरपुर और भागलपुर जिले सहित बिहार में बीस अलग-अलग न्यूज रूम स्थापित किए गए हैं।

60000 सुरक्षाकर्मियों के भरोसे होगी गुजरात चुनाव की सुरक्षा, ट्रेन की 650 बोगियां हुईं तैयार

उन्होंने बताया कि चिल्ड्रेंस स्क्रैपी न्यूज सर्विस के लिए ये सारे न्यूज रूम पूरी तरह से बेकार की चीजों से बनाए गए हैं। इस अस्थायी स्क्रैपी न्यूज सर्विस और न्यूज-टॉक-गेम शो को बच्चों के लिए और बच्चों के द्वारा तैयार किया गया है।

ये सर्विस भारत की सबसे बड़ी समस्याओं को ‘डिजाइन थिंकिंग’ और ‘स्क्रैपी कौशल’ से हल करने का रास्ता सुझाएगा। इसके मद्देनजर मुजफ्फरपुर के न्यूजरूम के लिए अभिनव और दिलचस्प गतिविधियों की एक लिस्ट तैयार की गई है।

उन्होंने आगे कहा कि ‘स्क्रैपी हीरोज’ ने स्थानीय उद्यमियों जैसे मधुमक्खी पालकों, महिला ई-रिक्शा चालकों, महिला मुक्केबाजी चैंपियनों, यातायात महिला पुलिस, जैविक किसानों के साथ ही ग्रांड पैरेंट्स (दादा-दादी) के इंटरव्यू पर ध्यान केंद्रित किया है।

भारत के बाद अब ब्रिटेन झेलेगा नोटबंदी की मार

इसके अलावा ‘स्क्रैपी डिबेट्स’ में स्क्रैपी किड एंकर्स ने स्थानीय मेहमानों को न्यूज रूम में सही मुद्दों पर चर्चा करने और समस्याओं के सामूहिक समाधान ढूंढने के लिए आमंत्रित किया।

इस अवसर पर जिला शिक्षा पदाधिकारी ललन प्रसाद सिंह, प्रखंड विकास पदाधिकारी पंकज कुमार सिंह सहित कई अधिकारी और गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

=>
LIVE TV