सोमवार , जून 18 2018

भारत के बाद अब ब्रिटेन झेलेगा नोटबंदी की मार

नरेंद्र मोदी का जलवालंदन। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जलवा पूरी दुनिया में किस तरह फैल रहा है इसका अंदाजा हाल ही में ब्रिटेन सरकार द्वारा लिए गए एक फैसले से नजर आता है। दरअसल जिस तरह से नवंबर 2016 में भारत में पीएम मोदी ने नोटबंदी का फैसला लिया था उसी की तर्ज पर ब्रिटिश सरकार ने भी ‘पाउंड बंदी’ का फैसला लिया है। ब्रिटिश सरकार द्वारा लिए गए इस फैसले से वहां मार्च 2018 के बाद पुराना 10 पाउंड का सिक्का चलन से बाहर हो जाएगा।

ब्रिटेन सरकार द्वारा इसकी जगह जल्द ही ब्रिटिश लेखक जेन ऑस्टिन की फोटो वाला नया नोट मार्केट में 10 पाउंड से रिप्लेस किया जाएगा। गौरतलब हो कि कुछ इसी तरह 8 नवंबर 2016 को भी पीएम मोदी द्वारा लिए गए नोटबंदी के फैसले के बाद पुराने 500 और 1000 के नोटों को चलन से बाहर कर उनकी जगह 500 और 2000 के नए नोटों को चलन में लाया गया था।

अमेरिका का सीरिया में आईएस से लड़ाई जारी रखने का संकल्प

हांलाकि ब्रिटेन में अभी 10 पाउंड वाले पुराने नोट मार्च तक चलन में बने रहेंगे। इस बात की जानकारी बैंक ऑफ इंग्लैण्ड ने दी। इस फैसले को लेकर सरकार ने यह भी कहा है कि नए नोट वेल्‍स में मौजूद रॉयल मि‍न्‍ट में बनेंगे और पहली बार कुल 15 करोड़ नोट जारी कि‍ए जाएंगे।

इस लिए लेना पड़ा फैसला

ब्रिटिश सरकार द्वारा एकाएक लिए गए इस बड़े फैसले के पीछे भी नकली सि‍क्‍कों के कारोबार को मुख्य वजह बताया जा रहा है और इसका मुख्य मकसद उन लोगों पर ही लगाम लगाना है जो इस अवैध कारोबार में शामिल हैं। बताते चलें कि ब्रि‍टेन की इकोनॉमी में मौजूद पाउंड पि‍छले 30 साल से चलन में है।

सामने थी मौत, फिर भी ड्रम के सहारे पार कर गया समंदर

नए नोट की खासियत

ब्रिटिश सरकार द्वारा जारी किए जा रहे नए नोट में जहां एक तरफ क्वीन एलीजाबेथ की फोटो होगी वहीं दूसरी ओर ब्रिटिश लेखक जेन ऑस्टिन की फोटो भी मौजूद रहेगी। इसके साथ ही नोटों के ऊपर टन नंबर शब्द में लिखा है। जिसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि नोटों को मोड़ने पर यह टन नंबर पाउंड में बदल जाता है। और तो और नोटों के ऊपर बैंक ऑफ इंग्लैंड लिखने के लिए खास तरह की इंक का इस्तेमाल किया गया है।

=>
LIVE TV