Tuesday , September 25 2018

करिश्मा का ‘करिश्माई’ सफर जिसका हीरो था ‘नम्बर बन’

25 जून, 1974 को रणधीर कपूर और बबीता के घर जन्मीं करिश्मा कपूर आज अपना 44वां जन्मदिन मना रही हैं। उनके पिता रणधीर कपूर अभिनेता और मां बबीता जानी मानी अभीनेत्री थीं। करिश्मा जब तक बॉलीवुड में रहीं सिल्वर स्क्रीन पर छाई रहीं। कपूर खानदान से ताल्लुक होने के बावजूद करिश्मा को बॉलीवुड में अपनी जगह बनाने के लिए काफी स्ट्रगल करना पड़ा था। करिश्मा ने बतौर अभिनेत्री अपने सिने कैरियर की शुरूआत वर्ष 1991 में प्रदर्शित फिल्म प्रेम कैदी से की ये फिल्म टिकट खिड़की पर सुपरहिट साबित हुई साथ ही करिश्मा के अभिनय को भी सराहा गया।

करिश्मा कपूर

प्रेमकैदीके बाद करिश्मा ने एक साथ दर्जनों फिल्में साइन कर ली। पुलिस ऑफिसर’, ‘जागृति’, ‘सपने साजन केऔर दीदार जैसी फिल्में एक के बाद एक आईं और फ्लॉप भी हो गईं। करिश्मा की किस्मत का सितारा वर्ष 1996 में प्रदर्शित फिल्म राजा हिंदुस्तानी से चमका। इस फिल्म में उनके नायक के रूप में आमिर खान थे। बेहतरीन गीत संगीत और अभिनय से सजी इस फिल्म की कामयाबी ने करिश्मा को स्टार के रूप में स्थापित कर दिया।

वर्ष 1997 में प्रदर्शित फिल्म दिल तो पागल है करिश्मा कपूर के सिने कैरियर की एक और महत्वपूर्ण फिल्म साबित हुई। आखिरकार 29 सितंबर, 2003 को करिश्मा ने संजय कपूर से शादी कर फिल्मों को अलविदा कह दिया और दिल्ली शिफ्ट हो गई। शादी के बाद भी सुर्खियों ने करिश्मा का पीछा नहीं छोड़ा और पति के साथ उनके अनबन की खबरें आने लगी थी।

इस खबर ने तब बड़ा रूप ले लिया जब 2012 में करिश्मा पति का घर छोड़ वापस मुंबई आ गईं। उसी साल उन्होंने फिल्म डेंजरस इश्क़ से वापसी का एलान कर फिर चर्चा बटोरी। उनकी वापसी से ज्यादा इस फिल्म के फ्लॉप होने की खबर ने मीडिया में ज्यादा जगह पाई।

करिश्मा फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिए वह फिल्म फेयर के समीक्षक पुरस्कार से सम्मानित की गई।  2000 के दशक में करिश्मा कपूर ने दर्शकों की पसंद को देखते हुए छोटे पर्दे का भी रूख किया और करिश्मा धारावाहिक बतौर अभिनेत्री काम करके दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया।

एक समय ऐसा था जब करिश्मा और गोविंदा की जोड़ी से सिल्वर स्क्रीन पर जमकर धमाल मचाया था। यही नहीं इनकी बेमिसाल जोड़ी ने एक के बाद एक शानदार फिल्मों को अपने नाम कर लिया था।

=>
LIVE TV