हिमाचल प्रदेश में जोरदार बारिश के बाद नदी-नाले उफान पर, कालका- शिमला नेशनल हाईवे क्षतिग्रस्त

हिमाचल प्रदेश में बारिश ने रिकॉर्ड तोड़ दिया है। जोरदार बारिश के चलते  नदी-नाले उफान पर हैं। भारी बारिश के कारण मनाली और कुल्लू के नेशनल हाईवे- 3 को बंद कर दिया है। इन सभी के साथ कालका- शिमला नेशनल हाईवे-22 पर पहाड़ के दरकने का सिलसिला अभी भी कम होने का नाम नहीं ले रहा है।

हिमाचल प्रदेश

भारी बारिश से जुड़ी घटनाओं में रविवार को तीन बच्चों सहित 18 लोगों की मौत हो गई. शिमला में भारतीय मौसम विभाग ने कहा कि रविवार को हुई बारिश बीते 70 सालों में 24 घंटे के दौरान दर्ज की गई सबसे ज्यादा बारिश है. एक अधिकारी ने कहा कि लगातार बारिश की वजह भूस्खलन, सड़कों के संपर्क मार्ग के कटने से सैकड़ों लोग फंसे हुए हैं. बारिश की वजह से बिजली परियोजनाओं को बंद करना पड़ा और बांध का पानी छोड़ना पड़ा.

उफनती ब्यास नदी के किनारे बड़े पैमाने पर हुए भूस्खलनों के कारण मंडी और कुल्लू शहरों के बीच चंडीगढ़-मनाली राजमार्ग पर यातायात बाधित हो गया है. मंडी-जोगिंदरनगर राजमार्ग को भी यातायात के लिए बंद किया गया है. राज्यभर में 68 सड़कों पर यातायात बाधित है और चंबा जिले में सबसे अधिक 47 सड़कें बाधित हैं. बाढ़ के कारण कुल्लू शहर के पास एक पुल बह गया.

बंगलों पर कुंडली जमाये बैठे हैं करीब 200 पूर्व लोकसभा सांसद, खाली करने में कर रहे आनाकानी

आईएमडी ने कहा कि पूरे राज्य में 102.5 मिलीमीटर बारिश हुई है और यह एक दिन की सामान्य बारिश से 1,065 से ज्यादा है. इसमें कहा गया कि सभी जिलों में पर्याप्त बारिश हुई है. सबसे ज्यादा बारिश बिलासपुर जिले में 252 मिलीमीटर दर्ज की गई है, जो सामान्य से 2586 फीसदी ज्यादा है. शिमला, सिरमौर, मंडी, कांगड़ा और कुल्लू जिलों के अंदरूनी इलाकों में संपर्क मार्ग को बंद किए जाने की रिपोर्ट है, जिससे यातायात बाधित हुआ है.

 

=>
LIVE TV