रुहेलखंड विश्वविद्यालय के कुलपति की फर्जी मेल आइडी बनाकर ठगी की थी योजना, बच गए शिक्षक

महात्मा ज्योतिबा फुले रुहेलखंड विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अनिल शुक्ला की फर्जी मेल आइडी बनाकर ठगी की योजना थी। भेजे गए संदेश के नीचे एक लिंक भी दिया गया था। एक शिक्षक ने जैसे ही उसे क्लिक किया तो उसमें प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद देते हुए गिफ्ट कार्ड ऑनलाइन आर्डर करने के लिए रुपये की जरूरत बताई गई। यह भी लिखा कितने रुपये की जरूरत होगी और वापस भी कर दिए जाएंगे। बारादरी थाना पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

रिस्पांस देते ही मिला लिंक

विश्वविद्यालय में 120 से ज्यादा स्थायी शिक्षक तैनात हैं। 29 जून को 20 से ज्यादा शिक्षकों के पास कुलपति प्रो. अनिल शुक्ला के नाम से ई-मेल पहुंचा। जिसमें मदद मांगने के साथ ई-मेल का जवाब देने के लिए कहा गया। कई शिक्षकों ने ओके का जवाब भी दे दिया। बाद में पता चला कि यह फर्जी ई-मेल है। कुलपति ने शुक्रवार को एसएसपी शैलेश पांडेय को इसकी सूचना देते हुए रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए पत्र भेज दिया। कई शिक्षकों ने ई-मेल को फिर से चेक किया तो पता चला कि फर्जी मेल पर रेस्पांस करते ही एक लिंक दिया गया था।

साइबर सेल में की थी शिकायत

जिसमें रुपये जमा करने के लिए कहा गया। यह भी वादा किया गया कि इसकी प्रतिपूर्ति की जाएगी। शिक्षक समझ गए कि ठगने की योजना बनाई गई थी। पहले भी भेजी गई थी दूसरे शिक्षक की फर्जी आइडी से मेल यह पहला मौका नहीं है जब कुलपति की फर्जी आइडी बनाकर मेल भेजी गई हो। बीते चार जून को प्रवेश समन्वयक प्रो. एसके पांडेय के नाम भी फर्जी ई-मेल आइडी बनाकर शिक्षकों को भेजी गई थी। जिसमें लगभग वही बातें लिखी गईं जो कुलपति की फर्जी मेल में लिखी गईं। प्रो. पांडेय ने बताया कि कुछ शिक्षकों ने जैसे ही मुझे बताया था, तो मैंने इसकी शिकायत साइबर सेल में की थी।

किसी ने फर्जी ई-मेल आइडी बनाकर शिक्षकों को भेजी थी। उसकी रिपोर्ट पुलिस में कर दी गई है। कुछ दिन पहले भी एक शिक्षक के नाम से ऐसी ही फर्जी ई-मेल भेजी गई थी। 

=>
LIVE TV