महबूबा मुफ़्ती के तिरंगा नहीं उठाने वाले बयान पर भाजपा ने किया ये सवाल

महबूबा मुफ़्ती के तिरंगे वाले उस विवादित बयान पर भारतीय जनता पार्टी ने फिर हमला बोला है। भाजपा नेता एवं केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शनिवार को कहा कि आश्चर्य है कि तथाकथित सेक्युलर लॉबी के लोग इस मामले पर शांत क्यों है। देश में कुछ भी होने पर आये दिन भाजपा के खिलाफ झंडा लेकर खड़ा हो जाने वाले लोग महबूबा मुफ़्ती के इतने बड़े राष्ट्रविरोधी बयान पर खामोश है। यह उन लोगों के दोहरे मानदंड को दिखाता है।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि महबूबा मुफ़्ती ने भारत के तिरंगे का जिस तरह से अपमान किया है हम उसकी कड़ी निंदा करते है। तिरंगा देश का झंडा है और जम्मू-कश्मीर भारत का अविभाज्य अंग है। उन्होंने कहा कि हम बता देना चाहते है कि अब अनुच्छेद 370 बहाल नहीं होने वाली है। एक देश में दो निशान और दो प्रधान अब नहीं चलेंगे। वहां का अलग झंडा नहीं चलेगा।

वहीँ शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री जीतेन्द्र सिंह ने कहा था कि महबूबा मुफ़्ती सत्ता में आने के दौरान भारत माता की जय कहते हुए शपथ लेती हैं लेकिन जब सत्ता से बाहर जाती हैं तो पाक की शपथ लेना शुरू कर देती हैं। जम्मू-कश्मीर के इन नेताओं ने अपनी सुविधा के हिसाब से परिभाषा गढ़ ली है। ये सत्ता से बाहर जाते ही जम्मू-कश्मीर की एकता और अखंडता पर सवाल खड़ा करना शुरू कर देते हैं।

गौरतलब है कि पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ़्ती ने शुक्रवार को 14 महीने की नजरबंदी से रिहा होने के बाद पहली बार मीडिया से मुखातिब हुई थी। उन्होंने कहा था कि वह तिरंगा तभी थामेंगी जब जम्मू-कश्मीर का झंडा बहाल हो जायेगा। जब तक जम्मू-कश्मीर को लेकर पिछले साल 5 अगस्त को संविधान में किये गए बदलावों को वापस नहीं ले लिया जाता तब तक उन्हें तिरंगा थामने में कोई दिलचस्पी नहीं है। तिरंगे के साथ हमारा संबंध जम्मू-कश्मीर के झंडे की वजह से ही है। जब हमारा झंडा हमारे साथ आएगा तभी हम तिरंगे को उठाएंगे।

=>
LIVE TV