मंडुआडीह थानाक्षेत्र के नैपुरवां गांव में डेढ़ वर्षीय मासूम की पानी से भरे ड्रम में डूबने से हुई मौत

मंडुआडीह थानाक्षेत्र के नैपुरवां गांव में गुरुवार की सुबह एक डेढ़ वर्षीय मासूम की पानी से भरे ड्रम में डूबने से मौत हो गई। परिजन उसे निजी चिकित्सालय लेकर आए। लेकिन डाक्टर ने मृत घोषित कर दिया। गुरुवार की सुबह को चांदपुर गांव के नैपुरवां निवासी पिंटू पटेल अपने घर से कुछ दूरी पर बने घर में बैठे हुए थे। वहीं उनका डेढ़ वर्षीय इकलौता पुत्र पूरब भी खेल रहा था। बताते हैं कि इसी बीच पूरब की मां राधा देवी घर के अंदर किसी काम से चली गई। बेटा पूरब अकेले ही खेल रहा था। घर में पेयजल की व्यवस्था न होने के कारण पानी संरक्षित कर रखे हुए स्टील के ड्रम में भरे पानी से खड़े होकर खेलने लगा। इसी बीच बच्चा किसी तरह फिसलकर ड्रम में गिर गया।

इस दौरान करीब 20 मिनट बाद उसकी तलाश की गई, तो वह ड्रम के अंदर सिर के बल पानी में डूबा हुआ मिला। परिजन उसे लेकर चांदपुर के एक हास्पिटल पहुंचे। जहां डाक्टर ने मासूम को देखकर मृत घोषित कर दिया। लेकिन परिजनों को बच्चे की मृत होने की बात का भरोसा नहीं हुआ। वह दूसरे चिकित्सालय भी ले गए। वहां भी बच्चे को मृत घोषित करने की बात सामने आई। उसके बाद परिजनों का रो- रो कर बुरा हाल हो गया।

मां राधा, पिता पिंटू, दादा नंदलाल बार- बार गश खाकर गिर जा रहे थे। स्‍थानीय लोगों के अनुसार पिता पिंटू पेंटिंग का काम करता है। मासूम का शव देखकर आस पड़ोस की महिलाएं व बहन निशा, चांदनी, शालिनी, रोशनी दहाड़ मारकर रोती दिखी। यह सब देख हर किसी की आंखे नम हो जा रही थी। आसपास के लोगों ने बताया कि पूरब परिवार में चार बहनों के बाद बहुत मन्नत के बाद पैदा हुआ था। वहीं स्‍थानीय लोगों ने इस मामले की जानकारी पुलिस को दे दी है।

=>
LIVE TV