भारत का मंदिर जहां पर सभी को सजा सुनाने वाले भोले को पाप से मिली थी मुक्ति

भगवान भोलेनाथ को भी ब्रह्म हत्या के पाप से यहीं मुक्ति मिली थी। आइए जानते हैं इसकी अपार महिमा…
इतना ही नहीं यहां तर्पण करने से पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है, इसलिए भगवान कृष्ण की आज्ञा लेकर पांडव भी पितरों के उद्घार के तर्पण के लिए पहुंचे थे।

भारत का मंदिर
सदविप्र समाज सेवा के संस्थापक सद्गुरु स्वामी कृष्णानंद जी महाराज ने बद्रीनाथ धाम की महिमा का वर्णन अपने सैकड़ों भक्तों के बीच किया।
सद्गुरु ने कहा कि विश्व में अकेला बद्रीनाथ धाम ऐसा स्थान है, जहां भगवान विष्णु तपस्यारत हैं, लिहाजा यह स्थान तपस्या के लिए सर्वश्रेष्ठ है। कार्यक्रम में बाहर आए तीर्थयात्रियों के साथ ही स्थानीय भक्तों ने भी प्रतिभाग किया।

सिर से झड़े बालों से हो रहा अरब का कारोबार, भारत-पाक में मची होड़
पितर मोक्ष साधना कार्यक्रम सोमवार तक आयोजित होगा। इसके बाद 16 अक्तूबर तक धाम में वैदिक कर्मकांड, ध्यान और साधना कार्यक्रम आयोजित होंगे। सदविप्र समाज सेवा के प्रदेश प्रभारी महात्मा विनोद ने बताया कि सद्गुरु स्वामी कृष्णानंद जी महाराज और आचार्य संतोष शर्मा के मार्गदर्शन में आयोजित कार्यक्रम में सैकड़ों भक्तों ने भाग लिया।

=>
LIVE TV