पाक की कश्मीर पर यूएनएचआरसी में करारी राजनीतिक हार, किसी देश का नहीं मिला साथ

पाकिस्तान कश्मीर पर यूएनएचआरसी में प्रस्ताव पेश करना चाह रहा था। लेकिन उसे अन्य देशों से सर्मथन नहीं मिला। ज्यादातर देशों ने पाक का सर्मथन करने से साफ इंकार कर दिया।

इमरान

यूएनएचआरसी में किसी प्रस्ताव को पेश करने के लिए 47 सदस्य देशों में से 16 का समर्थन जरूरी है, लेकिन पाक इतने देशों का साथ भी नहीं जुटा सका। जेनेवा में यूएनएचआरसी का 42वां सत्र चल रहा है। पाकिस्तान इस सत्र में कश्मीर पर प्रस्ताव पेश कर इसे अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बनाना चाह रहा था लेकिन उसके मंसूबे पूरे नहीं हो सके।

इससे पहले 10 सितंबर को पाक ने यूएनएसआरसी में कश्मीर की स्थिति पर बयान दिया था। इसमें उसने 60 देशों के समर्थन की बात कही थी, लेकिन उन देशों की जानकारी नहीं दे पाया था। भारत और पाक दोनों यूएनएचआरसी के सदस्य हैं। पाक का कार्यकाल इसी साल खत्म हो रहा है जबकि भारत 2021 तक इस वैश्विक संस्था का सदस्य रहेगा।

सैमसंग ने लांच किया Samsung Galaxy M30s, मिलेगी 6000 एमएएच की विशाल बैटरी

24 घंटे में दूसरा झटका
पाकिस्तान को 24 घंटे के अंदर दूसरा बड़ा झटका लगा है। इससे पहले बुधवार को यूरोपीय यूनियन की संसद ने जम्मू-कश्मीर मसले पर कहा था कि भारत में चांद से आतंकी नहीं आते। पाकिस्तान क्षेत्र में शांति स्थापित करे और कश्मीर मसले को भारत से बातचीत के जरिये सुलझाए।

=>
LIVE TV