चेकिंग का दम भर्ती रही पुलिस, हत्यारे युवती के शव को गाड़ी में लेकर घूमते रहे

रिपोर्ट: शिवा शर्मा

 

लखनऊ : राजधानी में 27 वर्षीय युवती की हत्या की वारदात ने पुलिस के उन तमाम अभियान के दावों की पोल खोल दी है। जिनके बुते कानून व्यवस्था बेहतर रखने का दम लखनऊ पुलिस करती है। बेखौफ हत्यारों ने पहले युवती को गाड़ी में अगवा किया उसके बाद सामूहिक दुष्कर्म किया और विरोध पर गाड़ी में ही हत्या कर शव रायबरेली के सई नदी में ठिकाने लगा दिया। इस बीच 4 थानों की पुलिस चेकिंग का दम भर्ती रही और हत्यारे युवती के शव को गाड़ी में लेकर घूमते रहे। लेकिन पुलिस को भनक भी ना लगी।

HATYA

आपको बता दें, बीते 3 अगस्त को पारा के हँसखेड़ा निवासी 27 वर्षीय युवती के गायब होने पर परिजनों ने अनहोनी की आशंका जता, पुलिस से शिकायत की। परिजनों ने पुलिस को ये भी सूचना दी कि संजय यादव की रियल स्टेट कम्पनी में वो काम करती है और 3 लाख के लेनदेन को लेकर संजय से उसका विवाद भी हुआ था। बावजूद इसके पारा पुलिस लापरवाह बनी रही और मृतिका के भाई ने जब एसएसपी से गुहार लगाई। पारा पुलिस के  दो आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद युवती की हत्या का पर्दाफाश हुआ। आरोपियों ने पुलिस के सामने इकबालिया जुर्म कुबूल किया और इस वारदात की जो कहानी बया की वो कड़ी दर कड़ी पुलिस की लापरवाही उजागर कर रही है।

युवक ने अपने ही परिवार को भेजी अपनी लाश की फोटो, वजह जान कर हो जाएंगे हैरान…

अगर एसओ ने सही समय पर कार्यवाही की होती तो शायद आज युवती जिंदा होती। बहरहाल मामले में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर शव नदी से बरामद किया है जबकि मुख्य आरोपी संजय यादव अभी भी फरार है।

=>
LIVE TV