इंसानियत की हद पार, पांच साल की मासूम बच्ची को बनाया गया हवस का शिकार !

रिपोर्ट –   विकास सौलोमन

कानपुर : उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक बार फिर दरिन्दगी भरी वारदात ने समाज को शर्मिंदा कर दिया |  एक पांच साल की मासूम बच्ची को उसके पड़ोसी ने अपनी हवस का शिकार बना डाला |

उस बच्ची की जान भी जा सकती थी  लेकिन लोगों को बच्ची की चीख पुकार सुनाई दे गई |  बस क्या था ग्रामीणों ने पहले उस दंरिदे को पकड़कर पीटा फिर पुलिस के हवाले कर दिया |

सरकार कहती है  यूपी में नही होने देंगे बलात्कार | तो उत्तर प्रदेश की योगी सरकार बेटियों के सुरक्षा के दावों को डंके की चोट पर एलान करती है |

लेकिन देश और प्रदेश सरकार के इन दावों में कितनी सच्चाई है | यह अंदाजा कानपुर की इस वारदात को देखकर लगाया जा सकता है |

यहाँ के चौबेपुर थानाक्षेत्र के मलबा गाँव मे एक पांच साल की मासूम नन्हीं बेटी को उसके पड़ोसी ने अपनी हवस का शिकार बना डाला |

जिसकी खबर फैलते ही पूरे गाँव मे भीषण आक्रोश बना हुआ है |  दरअसल इस वारदात को उस वक्त अंजाम दिया गया |  जब मालव गाव में रहने वाले किसान अपने पूरे परिवार के साथ छत पर सोने गया हुआ था |

डायरिया से बचने के लिए सबसे ज़रूरी है सफाई, देखें ये खास रिपोर्ट !…

और जब गहरी नींद में सो रहे थे |  तभी सुबह होने से पहले पड़ोस में रहने वाले 26 वर्षीय बालकिशन ने उस मासूम बच्ची को उठा लिया  और पास के खेत मे ले जाकर इंसानियत की हदें पार कर दी |

अपना मंसूबा पूरा करने वाला बालकिशन भागने की फिराक में ही था  पर खेतों पर काम करने के लिए जा रहे ग्रामीणों को मासूम बच्ची के रोने की आवाज जा पहुंची और  जैसे ही लोग पास पहुँचे तो दंग हो गए  और भाग रहे बालकिशन को पकड़ लिया |

जिसके बाद एक-एक कर इकट्ठा हो रहे ग्रामीणों ने बालकिशन की जमकर पिटाई की |  वहीं सूचना मिलने पर पहुँची पुलिस ने बालकिशन को हिरासत में लेकर मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म करने की कार्रवाई की |

हालांकि पुलिस ने बालकिशन को जेल तो भेजने की तैयारी कर ली है  लेकिन आज भी सवाल बार-बार यही उठता है कि आखिर कब तक ऐसे कुकर्मी सोच रखने वाले लोग जिंदा रहेंगे और इस तरह की दरिन्दगी को अंजाम देते रहेंगे और कब तक सरकार अपने झूठे सख्त दावों की सरहाना करती रहेगी |

 

=>
LIVE TV