अब आपके ‘Legal Name’ की होगी जरूरत,वरना यूज नहीं कर पाएंगे Whatsapp Payment सर्विस

(Vivek)

भारत में वाट्सएप पेमेंट यूजर्स के लिए एक जरूरी अपडेट है| WhatsApp Payment सर्विस को यूज करने के लिए आपको ऐप में अपना लीगल नाम देना जरूरी है| जिन यूजर्स ने अपने ऐप पर यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) आधारित भुगतान सुविधा को सक्षम किया है| इस सर्विस का यूज करने वाले यूजर्स का नाम बैंक में दिए गए नाम से अलग नहीं होना चाहिए|

धोखाधड़ी को रोकने के लिए नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) द्वारा निर्धारित यूपीआई दिशानिर्देशों का पालन करते हुए कंपनी ने ये कदम उठाया है| मेटा के स्वामित्व वाले इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप की ओर से ये जानकारी दी गई|

वाट्सएप ने अपने ऐप में एक नोटिफिकेशन देना शुरू कर दिया है, जिसमें कानूनी नाम की आवश्यकता का विवरण देने वाले एफएक्यू पेज का लिंक है| ”जब आप वाट्सएप पर भुगतान का उपयोग करते हैं,तो अन्य यूपीआई यूजर्स आपका कानूनी नाम देख पाएंगे,जो कि आपके बैंक खाते पर होगा,”

NPCI द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए मार्च के अंत से एंड्रॉइड और आईओएस यूजर्स के लिए अधिसूचना जारी करना शुरू कर दिया गया है| प्रश्न पृष्ठ (FAQ page) के अनुसार आपके बैंक खाते में जो नाम होगा उसे उस व्यक्ति को भी दिखाए जाएंगे, जिसे यूजर्स पैसे ट्रांसफर करता है या भुगतान करता है|

वाट्सएप का कहना है कि वह यूजर्स के व्हाट्सऐप अकाउंट से जुड़े फोन नंबर का इस्तेमाल उनके बैंक अकाउंट नंबर की पहचान करने के लिए करती है| बैंक अकाउंट से जुड़ा नाम वह नाम है जिसे शेयर किया जाएगा| “जब आप वाट्सएप पर पेमेंट का उपयोग करते हैं, तो अन्य यूपीआई यूजर आपका कानूनी नाम देख पाएंगे| आपके बैंक अकाउंट पर यह वही नाम है,”

पब्लिक-पॉलिसी थिंक-टैंक द डायलॉग के संस्थापक निदेशक काज़िम रिज़वी ने कहा कि व्हाट्सएप द्वारा कानूनी नामों की आवश्यकता सभी भुगतान ऐप द्वारा आवश्यक नियमित अनुपालन के अलावा और कुछ नहीं थी| “एक मैसेजिंग प्लेटफॉर्म के रूप में, वाट्सएप अपने उपयोगकर्ताओं को अपनी पसंद के नाम का उपयोग करने की स्वतंत्रता प्रदान करता है.”|

LIVE TV