Wednesday , September 20 2017

सहवाग ने किया ऐसा खुलासा, जिससे मुसीबत में आए सचिन

विराट कोहलीनई दिल्ली। भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का मानना है कि विराट कोहली दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के रिकार्ड तोड़ सकते हैं। सहवाग का मानना है कि कोहली के पास अभी 10 साल और हैं, इसी कारण वह आसानी से तेंदुलकर को पीछे कर सकते हैं।

चेन्नई वनडे : ऑस्ट्रेलिया का शिकार करने को तैयार विजय रथ पर सवार टीम इंडिया

सहवाग ने शनिवार को समाचार चैनल इंडिया टीवी से बातचीत में कहा, “हमने कभी नहीं सोचा था कि भविष्य में एक और सचिन होगा। लेकिन विराट कोहली ने मानसिकता को बदल दिया है। मुझे लगता है कि विराट सचिन के रिकार्डस को पीछे छोड़ सकते हैं।”

उन्होंने कहा, “विराट अभी सिर्फ 28 साल के हैं और उनके पास अभी 10 साल और बाकी हैं। मुझे लगता है कि वह कुछ और बड़े रिकार्डस बनाएंगे और तेंदुलकर को पीछे छोड़ देंगे।”

कोहली ने वनडे में अभी तक 30 शतक लगाए हैं और वह खेल के इस प्रारूप में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले बल्लेबाजों की सूची में दूसरे नंबर पर हैं। उनके साथ आस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग भी हैं, उनके भी 30 शतक ही हैं। इस सूची में पहला स्थान तेंदुलकर का है जिनके नाम 49 शतक हैं।

हाल ही में कोहली ने कहा था कि सचिन के रिकार्ड तक पहुंचने में काफी मेहनत लगेगी।

कोरिया ओपन : फाइनल में पहुंची सिंधु, जापान की ओकुहारा से होगी खिताबी जंग

कोहली ने हाल ही में श्रीलंका दौरे पर कहा था, “महान बल्लेबाज (सचिन तेंदुलकर) थोड़ा आगे हैं। वहां तक पहुंचने में बहुत मेहनत लगेगी। मैं इस बारे में नहीं सोच रहा हूं। मैं सिर्फ टीम के बारे में सोच रहा हूं। अगर मैं नाबाद 90 रन बनाता हूं और टीम जीत जाती है तो यह मेरे लिए काफी है।”

सहवाग ने कहा कि वह अपना नाम बदलकर ‘गॉड’ सचिन तेंदुलकर रखना चाहेंगे।

उन्होंने कहा, “अगर मैं कर सकता हूं तो मैं अपना नाम बदल कर सचिन तेंदुलकर रखना चाहूंगा। उनके नाम कई रिकार्ड हैं। मैं उनके बराबर भी नहीं हूं। उन्हें क्रिकेट का भगवान कहा जाता है। कौन इस विश्व में भगवान नहीं बनना चाहता।”

लंबे समय तक तेंदुलकर के सलामी जोड़ीदार रहे सहवाग ने कहा कि वह हमेशा से सचिन से जलते हैं।

1989 से 2013 तक भारत के लिए खेलने वाले सचिन को विश्व का संपूर्ण बल्लेबाज माना जाता है। वह क्रिकेट के सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं।

=>
LIVE TV