पांडवों द्वारा बसाया गया भोले का यह मंदिर,पीछे छुपा है गहरा राज़

भारत का उत्तराखंड राज्य देवी-देवताओं का निवास स्थान माना जाता है। यहीं वजह है कि उत्तराखंड को देवभूमि के नाम से भी जाना जाता है। साल भर यहां श्रद्धालुओं का दर्शन करने के लिए आना जाना लगा ही रहता है। प्राकृतिक और प्राचीन धरोहर को जोड़कर रखा हुआ यह राज्य अपने राज्य के कई मंदिरों की महानता समेटे हुए है। इन मंदिरों का संबंध पौराणिक काल से बताया जा रहा है। यहां तक की इस स्थान का भ्रमण करने दूर-दूर से लोग यहां आते हैं।

मंदिर

केदारनाथ

केदारनाथ मंदिर भगवान शिव का एक बहुत ही पवित्र मंदिर माना जाता है। यहां पर भक्तों का हर महीने तांता लगा रहता है। यह मंदिर भगवान शिव के 12 सबसे ज्योतिर्लिगों में शुमार है। इसके अलावा भगवान का यह मंदिर भारत की चार धाम यात्रा में भी गिना जाता है। यह मंदिर रुद्रप्रयाग में स्थित है। अगर आपको यहां के दर्शन करने हैं तो आप अप्रैल से नंवबर के बीच सकते हैं।

केदारनाथ

 

यह भी पढ़ें: मेथीदाना पराठा खाएं सेहत बनाएं

तुंगनाथ मंदिर, रुद्रप्रयाग

रुद्रप्रयाग में केदारनाथ मंदिर के अलावा तुंगनाथ मंदिर भी है। यह मंदिर विश्व का सबसे ऊंचा शिव का मंदिर है। इतिहास के पन्ने बताते हैं कि भगवान शिव को प्रंसन्न करने के लिए पांडवों ने इस मंदिर का निर्माण करवाया था। यह मंदिर चोपता से 6 किमी की दूरी पर स्थित है। मंदिर का वास्तुकला आपको बार-बार यहां आने के लिए आकर्षित करेगा। यह स्थान यहां आने वाले हर पर्यटकों को अपनी ओर प्रभावित करता है।

तुंगनाथ मंदिर, रुद्रप्रयाग

बैजनाथ मंदिर, बैजनाथ

भगवान शिव के प्रसिद्ध मंदिरों में आप बैजनाथ मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। यह एक प्राचीन मंदिर है जो गोमती नदी के तट पर स्थित है। जानकारी के अनुसार इस मंदिर का निर्माण 1204 ईस्वी में अहुका और मन्युका नाम के दो व्यापारियों ने करवाया था। मंदिर की वास्तुकला देखने लायक है, यहां की दीवारों पर की गई नक्काशी काफी ज्यादा आकर्षित करती है। शिवलिंग मंदिर के मुख्य स्थल(गर्भगृह) में स्थित है। मंदिर के अदंर आपको शिलालेख भी दिखाई देंगे। इसके अलावा आप यहां की दीवारों पर उकेरी गई प्रतिमाओं को भी देख सकते हैं।

बैजनाथ मंदिर, बैजनाथ

यह भी पढ़ें: फैंस के दिल को भाया प्यारी ‘डायन’ का लुक, इंस्टा पर किया शेयर

रुद्रनाथ मंदिर, गढ़वाल

भगवान शिव के प्राचीन मंदिरों में आप गढ़वाल के चमोली जिले में स्थित रुद्रनाथ मंदिर के भी दर्शन कर सकते हैं। इस मंदिर की ऊंचाई समुद्रतल से 2220 है। यहा केवल भोलेनाथ के मुंख की पूजा करनी है। बाकी पूरे शरीर की पूजा नेपाल में स्थित पशुपतिनाथ मंदिर में की जाती है।  यहां तक पहुंचने के लिए आपको पहले गोपेश्वर आना होगा।

रुद्रनाथ मंदिर, गढ़वाल

 

=>
LIVE TV