1 नहीं 1000 मुकदमें कर दो, जेल भिजवा दो और लाठिया चलवा दो लेकिन मैं आवाज बंद नहीं करूंगा : संजय सिंह

आम आदमी पार्टी से राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने खुद पर देशद्रोह के तहत मुकदमा दर्ज होने के बाद उत्तर प्रदेश की मौजूदा योगी सरकार पर जोरदार हमला बोला। संजय सिंह ने साफ कहा कि आप मुझ पर 1 नहीं 1 हजार मुकदमें दर्ज करवा दीजिए, जेल में रख लीजिए और लाठी चलवा दीजिए लेकिन फिर भी मैं(संजय सिंह) अपनी आवाज को बंद नहीं करूंगा। मैं कभी भी जुर्म के खिलाफ बोलना बंद नहीं करूंगा और आवाज उठाऊंगा। इसी के साथ उन्होंने कहा कि वह 20 तारीख को लखनऊ जाकर थाने में अपनी गिरफ्तारी देंगे।

संजय सिंह ने कहा कि आपने सत्ता के उत्पीड़न, अहंकार और जातियों पर होने वाली राजनीति की कहानियां बहुत सी सुनी होंगी। लेकिन यूपी में इन दिनों जो हो रहा वह पहले कभी नहीं देखा सुना होगा। पूरा जीवन देश और समाज को समर्पित करने के बाद यूपी सरकार ने हमपर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया है। 3 माह भीतर 13 मुकदमें मेरे खिलाफ दर्ज किये गये हैं। इतने मुकदमें इस अवधि में यूपी के भीतर किसी भी माफिया के खिलाफ नहीं किये गये। संजय सिंह ने पूछा कि आखिर मेरा गुनाह क्या है, यह सवाल आज मैंने आज राज्यसभा में सभापति जी से भी पूछा। इसी के साथ कहा कि अगर मैं देशद्रोही हूं तो मुझे जेल में डाल दिया जाएगा।

20 तारीख को देंगे गिरफ्तारी

संजय सिंह ने कहा कि मैं नियमित तौर पर सदन की कार्यवाही का हिस्सा रहता हूं। लेकिन 20 तारीख को सुबह 9 बजे हस्ताक्षर मैं सभापति महोदय से अनुमति लेकर लखनऊ जाऊंगा। जहां जाकर मैं थाने में गिरफ्तारी दूंगा। संजय सिंह ने साफ किया कि मुझे पता है थाने जाने के बाद मेरी गिरफ्तारी की जाएगी और मैं उसके लिए पहले से ही तैयार हूं।

12 राजनीतिक दलों के 37 सांसदों ने किया समर्थन

देशद्रोह का मुकदमा दर्ज होने के बाद राज्यसभा में भी संजय सिंह की ओर से सभापति के सामने यह प्रकरण उठाया गया था। जिस पर कांग्रेस, सपा, टीएमसी, शिवसेना, आरजेडी, टीआरएस, टीडीपी, डीएमके, अकाली, एनसीपी, सीपीएम, सीपीआई, के सांसदों ने उनका समर्थन किया। आपको बता दें मामले में 37 सांसदों ने हस्ताक्षर कर सभापति से प्रकरण की जांच करवाने की मांग की। इसी के साथ संजय सिंह ने मांग की कि अगर मैं देशद्रोही हूं तो जेल भेज दीजिए। अगर नहीं तो फर्जी मुकदमा लिखने वालों के खिलाफ कार्रवाई हो।

संजय सिंह ने बताया आखिर क्यों दर्ज हुआ मुकदमा

संजय सिंह ने कहा कि मैंने यूपी में हो रहे अपराध और जाति के आधार पर हो रहे अन्याय को लेकर आवाज उठाई तो यह मुकदमा हुआ है। ब्राह्मणों, दलितों की हत्या का और तमाम जातियों के साथ हो रहे अन्यान का मामला मेरे द्वारा जिसके चलते यह मुकदमा मुझ पर दर्ज हुआ। संजय सिंह ने कहा कि यूपी में पिछले दिनों जो अपराधिक घटनाओं में वृद्धि हुई और विधायक निर्वेंद्र की हत्या, पत्रकार की हत्या, संजीत यादव के अपहरण और हत्या का मामला उठाए जाने पर मेरे खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हुआ है।
जब देश कोरोना से जूझ रहा तो यूपी में ऑक्सीमीटर और थर्मोमीटर के नाम पर घोटाला हो रहा हो रहा है। कमीशन और श्मशान में दलाली का खेल पूरी तरह से उत्तर प्रदेश में चल रहा है। यूपी में इस दिनों वह हो रहा है जो आपने कभी भी सुना ही नहीं होगा। महोबा के एसपी और डीएम ने व्यापारी इंद्रकांत से रंगदारी वसूली और जब व्यापारी ने मना किया तो उसकी हत्या करवा दी गयी। संजय सिंह ने सरकार पर हमलावर होते हुए कहा कि यूपी में जातिवाद करना , हत्याएं कराना, लूट की घटना होना, बलात्कार होना देशद्रोह नहीं है। लेकिन अगर आप सरकार पर सवाल पूछते हैं तो आप देशद्रोही है। उन्होंने कहा कि हां हमने सर्वे कराया कि क्या यूपी की सरकार जातिवादी है? इस पर 63 फीसदी लोगों ने हां कहा और 29 फीसदी लोगों ने न कहा। 63 फीसदी जनता का मानना है कि आप की सरकार जातिवादी है।

=>
LIVE TV