एक मां की दर्द भरी पुकार, मेरे लाल का बदन तप रहा है, भर्ती कर लो डॉक्टर साहब

मेरे लाल का बदन बुरी तरह बुखार से तप रहा है। वह आंख भी नहीं खोल पा रहा है। डॉक्टर साहब… मेरे बेटे को भर्ती कर लो। ये शब्द एक मां के है जो डॉक्टर के सामने बेटे इलाज के लिए निकले हैं। दरअसल, झलकारी नगर निवासी मां रजनेश के डेढ़ माह के बेटे की बीते सोमवार को बुखार से मौत हो गई थी। एक बच्चे की मौत पर मां के आंसू नहीं सूख पाए थे दूसरा बच्चा विवेक बेटे प्रदीप भी बुखार से तपने के साथ उल्टी और पेट दर्द से कराह रहा था। मां रजनेश विवेक को सौ शैय्या अस्पताल लेकर पहुंची तो डॉक्टर ने रक्त जांच कराने को कह दिया। साथ ही जांच रिपोर्ट आने के बाद ही भर्ती करने को कहा।

ऐसे में मां बच्चे को लेकर सौ शैय्या अस्पताल के सामने लगे टैंट में बैठी रही। रोती, बिलखती मां बच्चे का बुखार उतारने के लिए पानी की पट्टी रखती रही। रतनेश ने बताया कि पहला बच्चा सोमवार को खत्म हो गया है। दूसरे बीमार बच्चे को भर्ती कराने के लिए लाए तो डॉक्टर ने रिपोर्ट आने तक भर्ती न करने को कह दिया। रिपोर्ट आने तक यूं ही इंतजार करते रहेंगे। 

बता दें कि यूपी के कई जिलों में बीते कुछ दिनों से डेंगू और वायरल बुखार के मरीज बढ़ते जा रहे हैं। फिरोजाबाद में इस बुखार का प्रकोप सबसे अधिक देखने को मिल रहा है। सिर्फ फिरोजाबाद में अब तक 55 की मौत हो चुकी है। यूपी के बाद अब अन्य राज्यों में भी इस बुखार ने दस्तक दे दी है। बिहार के छपरा, गोपालगंज समेत कई जिलों में इसका असर देखने को मिल रहा है। अकेले पटना के NMCH में 87 मरीज भर्ती किए गए हैं।

LIVE TV