भाषण में ‘फिसली’ मोदी की जुबान, बिना शर्त पीएम की माफ़ी पर अड़े ‘सीधा-रुपैया’

नई दिल्ली: चुनाव आते ही राजनीतिक पार्टियों का एक दुसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करना कोई नई बात नहीं है. कांग्रेस अपने गढ़ कर्नाटक में अपनी साख बचाने की जद्दोजहद में लगी हुई है तो वहीं केंद्र में मोदी सरकार अपने कांग्रेस मुक्त भारत के सपने को साकार करने में लगी हुई है. पीएम मोदी ने कांग्रेस पार्टी पर हल्ला बोल दिया है. एक के बाद एक आरोपों के दौर से जनता में पैठ बनाने की कोशिश जारी है.मोदी

इस बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को विधिक नोटिस भेजे और उन्हें चेतावनी दी कि वह आपराधिक और दीवानी मानहानि के मामले दायर करेंगे. गौरतलब है कि सिद्धारमैया पर कथित भ्रष्टाचार को लेकर मोदी और शाह की ओर से निशाने साधे जा रहे हैं.

यह भी पढ़ें: …फिर शुरू हुआ करणी सेना का ‘आतंक’, पद्मावत के बाद इस मुद्दे पर बवाल की तैयारी

सिद्धारमैया ने इसके साथ ही भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बी एस येदियुरप्पा के खिलाफ भी नोटिस भेजा है जिनके खिलाफ कांग्रेस ने लगातार भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं. इस नोटिस में उनसे बिना शर्त माफी मांगने या 100 करोड़ रूपये के मानहानि मामले का सामना करने को कहा गया है.

पीएम मोदी ने सिद्धारमैया के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार को लेकर लगातार हमले किये हैं और उनकी सरकार को ‘‘ सीधा-रूपैया सरकार’’ और ‘‘10 प्रतिशत कमीशन सरकार’’ कहा है. मोदी ने अपने प्रचार अभियान के दौरान यह भी आरोप लगाया कि उनकी सरकार जहां व्यापार करने में आसानी की बात करती है सिद्धारमैया सरकार ‘‘ हत्या में सुगमता’’ का माहौल दे रही है.

सिद्धारमैया ने अपने नोटिस में प्रधानमंत्री एवं अन्य से मांग की है वे इलेक्ट्रानिक, प्रिंट और सोशल मीडिया के जरिये तत्काल ‘सार्वजनिक रूप से माफी मांगें’ और ऐसा नहीं करने पर उन्हें विधिक कार्यवाही का सामना करना पड़ेगा.

यह भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ गैंगरेप केस पठानकोट किया ट्रांसफर, सीबीआई जांच से इंकार

सिद्धारमैया ने अपने वकील और कांग्रेस के विधान परिषद सदस्य वी एस उगरप्पा के जरिये भेजे नोटिस में कहा है कि सभी ने भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत दंडनीय अपराध किये हैं. इसमें कहा गया है, ‘‘आपसे कहा जाता है कि आप आगे से ऐसे बयान देने से परहेज करें और तत्काल इलेक्ट्रानिक, प्रिंट और सोशल मीडिया के जरिये तुरंत बिना शर्त माफी मांगें जिसमें बयान और विज्ञापन आये हैं.

केंद्र की बागडोर सम्भाल रही मोदी सरकार जोकि खुद ही अपने आप में अन्य पार्टियों को साफ़ सुथरी राजनीति करने का आवाहन करती रहती है ऐसे में पीएम मोदी के ऊपर लगे ऐसे गंभीर आरोप कर्नाटक विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी की मुश्किलें बढ़ा सकते हैं.

=>
LIVE TV