लखनऊ विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र संघ नेताओं की साझा प्रेस कांफ्रेस, योगी सरकार के सामने रखीं 5 मांगे

रिपोर्ट- प्रिंस राज

लखनऊ। हजरतगंज के रॉयल कैफ़े में लखनऊ विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र संघ के नेताओं ने साझा प्रेस कांफ्रेस की। इसमें कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया के नेता अतुल अंजान समेत समाजवादी पार्टी के नेता राजेंद्र चौधरी, अरविन्द सिंह ‘गोप’ समेत कई छात्र संघ नेता मौजूद रहे।

लखनऊ विश्वविद्यालय

इस दौरान लखनऊ विश्वविद्यालय में हुई घटना का जिक्र करते हुए उन्होंने एलयू में छात्र संघ चुनाव बहाल करने की बात कही। अपनी 5 मांगों को रखते हुए शासन से उसे पूरी करने की बात कही और मांगे 3 सप्ताह में पूरी ना होने पर पूरे प्रदेश में खासकर लखनऊ में जन सभाएं कर आंदोलन करने की बात कही।

लखनऊ विश्विद्यालय में पिछले सप्ताह हुए शिक्षकों और वीसी से छात्रों की मारपीट की घटना के बाद विश्वविद्यालय ने पुलिस पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया था। जिसके बाद हाईकोर्ट ने भी मामले पर स्वत: संज्ञान लेकर सुनवाई थी।

वहीँ जिन छात्रों ने शिक्षकों से मारपीट की थी उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया था। छात्रों की गिरफ़्तारी के विरोध में एलयू के पूर्व के सभी छात्र संघ नेताओं ने प्रेस कांफ्रेस कर अपने द्वारा दी गई पांच सूत्रीय बिन्दुओं को मानने की बात कही।

यह भी पढ़ें:- पूर्व गवर्नर अजीज कुरैशी ने की प्रेस कांफ्रेंस, मोदी से टक्कर लेने के लिए सुझाया सबसे अलग नाम

अतुल अंजान ने कहा कि पिछले कई सालों से एलयू को कबूतर खाना बना दिया गया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री, राज्यपाल जो सीधा-सीधा विश्विद्यालय देखते हैं। वह छात्र संघ से घबराते हैं।

उन्होंने कहा कि जो छात्र अनशन, आंदोलन करते हैं। वह लोकतान्त्रिक प्रक्रिया का मुख्य अंश है। विद्यार्थी अपने एडमिशन की मांग करते हैं, तो वीसी मना कर देते हैं। प्रॉक्टर मना कर देते हैं। जोकि अनुचित है।

यह भी पढ़ें:- मुन्ना बजरंगी की हत्या से सहमे मुख्तार अंसारी, जेल में बढ़ाई गई सुरक्षा

एलयू में घट रही घटनाएं शैक्षणिक, स्वच्छ वातावरण के लिए निराशा पैदा करती है।

देखें वीडियो:-

=>
LIVE TV