पीएनबी घोटाले में दायर हुई पहली चार्जशीट, इलाहाबाद बैंक की सीईओ समेत कई बड़े नाम शामिल

नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो यानि सीबीआई ने पीएनबी में हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी  द्वारा दो अरब डॉलर के घोटाला मामले में पहली चार्जशीट को दाखिल कर दिया है। इनमें कुछ अधिकारियों के नाम भी शामिल हैं। इनमें सबसे चर्चित नाम ऊषा अनंतसुब्रह्मण्यम का है। जो फिलहाल इलाहबाद बैंक की सीईओ और एमडी हैं। दर्ज की गई चार्जशीट में ऊषा अनंतसुब्रमण्यन और पीएनबी के दो कार्यकारी निदेशकों की कथित भूमिकाओं का विस्तार से जिक्र किया है। यह चार्जशीट संबंधित मुंबई के सीबीआई कोर्ट में दाखिल की गई।

पीएनबी घोटाला

दरअसल सीबीआई ने पंजाब नेशनल बैंक में हुए महाघोटाले के आरोपी भगोड़े नीरव मोदी सहित 25 लोगों के खिलाफ 7500 पन्ने की चार्जशीट दाखिल कर दी है। मुंबई की विशेष अदालत में दायर इस चार्जशीट में इलाहाबाद बैंक की सीईओ और एमडी उषा अनंतसुब्रह्मण्यम का भी नाम है।

केंद्र सरकार ने सीबीआई द्वारा चार्जशीट दायर करने के बाद पीएनबी और इलाहाबाद बैंक को उन सभी लोगों को पद से हटाने का आदेश दे दिया है, जिनका नाम इस महाघोटाले में सामने आ रहा है।

उषा अनंतसुब्रह्मण्यम साल 2015 के अगस्त से 2017 के मई तक पीएनबी की एमडी और सीईओ रही हैं। सीबीआई ने उनसे इस घोटाले के संबंध में फरवरी में पूछताछ की थी। सोमवार को सीबीआई ने इस मामले में उनकी भूमिका को लेकर आरोप-पत्र दायर किया है।

यह भी पढ़ें:-दिल्ली मेट्रो स्टेशन पर बुजुर्ग की आत्महत्या की कोशिश

गौरतलब है 13 हजार करोड़ के फ्रॉड का खुलासा फरवरी के पहले हफ्ते में हुआ। पंजाब नेशनल बैंक ने सेबी और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को 11,356 करोड़ रुपए के घोटाले की जानकारी दी। बाद में पीएनबी ने सीबीआई को बैंक में 1300 करोड़ के नए फ्रॉड की जानकारी दी। इस तरह यह रकम बढ़कर करीब 13 हजार करोड़ तक पहुंच गई।

यह भी पढ़ें:-‘कांग्रेस को धमका रहे हैं पीएम मोदी’, मनमोहन ने राष्ट्रपति को लिखी शिकायती चिट्ठी

बता दें कि पीएनबी में फ्रॉड की शुरुआत मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में 2011 से हुई। फ्रॉड फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स (एलओयू) के जरिए किया गया। आरोपियों ने बैंक अफसरों के साथ मिलकर फर्जी एलओयू तैयार किए और 2011 से 2018 तक हजारों करोड़ की रकम विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर की।

देखें वीडियो:-

=>
LIVE TV