मंगलवार , जून 19 2018

दिल्ली को अपनी जीत से कोई फायदा नही लेकिन चेन्नई का सपना जरूर तोड़ दिया!

नई दिल्ली| प्लेऑफ की दौड़ से पहले ही बाहर हो चुकी दिल्ली डेयरडेविल्स ने शुक्रवार को अपने घर फिरोजशाह कोटला मैदान पर खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण के मैच में चेन्नई सुपर किंग्स को 34 रनों से हरा उलटफेर कर दिया। दिल्ली ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवरों में संघर्ष के बाद पांच विकेट के नुकसान पर 162 रनों का सम्माजनक स्कोर खड़ा किया था, लेकिन चेन्नई इस आसान से लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाई और पूरे ओवर खेलने के बाद छह विकेट पर 128 रन ही बना सकी।

खुशी मनाती दिल्ली की टीम

इस जीत से दिल्ली को कोई फायदा तो नहीं हुआ है, लेकिन उसने चेन्नई को अंकतालिका में पहले स्थान पर जाने से जरूर रोक दिया। चेन्नई इस समय दूसरे स्थान पर है। यह चेन्नई की इस सीजन में पांचवीं हार और दिल्ली की चौथी जीत है।

चेन्नई के लिए इनफॉर्म बल्लेबाज अंबाती रायुडू ने 50 रन बनाए जिसके लिए उन्होंने सिर्फ 29 गेंदें ली, जिनमें चार छक्के और चार चौके लगाए।लक्ष्य को देखते हुए रायुडू ने शेन वाटसन (14) के साथ मिलकर टीम को धीमी ही सही, लेकिन सधी हुई शुरूआत दी, लेकिन टीम का मध्यक्रम और निचला क्रम पूरी तरह से बिखर गया।

यह भी पढ़े: सिद्धारमैया ने कांग्रेस विधायक के साथ की रणनीतिक बैठक, बीजेपी को घेरने की पूरी तैयारी

दोनों ने पहले विकेट के लिए 46 रन जोड़े। वाटसन को अमित मिश्रा ने ट्रैंट बाउल्ट के हाथों कैच कराया। रायुडू ने 10वें ओवर की चौथी गेंद पर एक रन लेकर अपना अर्धशतक पूरा किया। वह इसी ओवर की आखिरी गेंद पर ग्लेन मैक्सवेल के हाथों लपके गए। 70 के कुल योग पर उनका विकेट हर्षल पटेल ने गिराया। सुरेश रैना 18 गेंदों में सिर्फ 15 रन ही बना सके और संदीप लामिछाने की गेंद पर विजय शंकर को डीप मिडविकेट पर आसान सा कैच दे बैठे।

सैम बिलिंग्स (1) को मिश्रा ने अपना दूसरा शिकार बनाया और 93 के कुल स्कोर पर उन्हें अभिषेक शर्मा के हाथों कैच कराया। 15वें ओवर की तीसरी गेंद पर बिलिंग्स आउट हुए। चार विकेट खो चुकी चेन्नई को जीत दिलाने की जिम्मेदारी कप्तान महेंद्र सिंह धौनी पर थी, लेकिन इस मैच में धौनी का बल्ला भी शांत रहा। 18वें ओवर की आखिरी गेंद पर कप्तान पवेलियन लौट लिए। उन्होंने 23 गेंदों में 17 रन बनाए जिसमें सिर्फ एक चौका शामिल था।

ड्वायन ब्रावो एक रन बना सके। रवींद्र जडेजा 18 गेंदों में दो छक्के मारकर 27 रनों पर नाबाद रहे, लेकिन टीम को जीत नहीं दिला सके। इससे पहले, हर्षल पटेल (नाबाद 36), विजय शंकर (नाबाद 36) की संघर्षपूर्ण पारियों के दम पर दिल्ली सम्माजनक स्कोर खड़ा करने में सफल रही। मेजबान टीम के लिए यह स्कोर भी मुश्किल लग रहा था लेकिन हर्षल ने तीन और शंकर ने एक छक्के की मदद से 26 रन बटोर अपनी टीम को सम्मानजनक स्कोर प्रदान किया।

यह भी पढ़े: जिस फैसले पर आग-बबूला हो रही कांग्रेस, उसके जन्मदाता थे नेहरु

हर्षल ने 16 गेंदों में चार छक्के और एक चौका लगाया। वहीं शंकर ने 28 गेंदों में दो चौके और दो छक्के लगाए। दोनों ने छठे विकेट के लिए 65 रनों की साझेदारी कर टीम को कम स्कोर तक सीमित रहने से बचाया।

दिल्ली को अच्छी शुरूआत की जरूरत थी लेकिन वो उसे मिली नहीं। युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (17) बड़ा शॉट खलेने की कोशिशि में दीपक चहर की गेंद पर शार्दूल ठाकुर के हाथों लपके गए। उनका विकेट 24 रनों के कुल स्कोर पर गिरा।

इसके बाद दिल्ली की उम्मीद ऋषभ पंत ने मैदान पर कदम रखा। चेन्नई की नपी तुली गेंदबाजी ने हालांकि पंत को हाथ खोलने के ज्यादा मौके नहीं दिए। छह ओवर में दिल्ली ने 39 रन बनाए थे। उसे 50 का आंकड़ा छूने के लिए 7.4 ओवरों तक इंतजार करना पड़ा। अय्यर ने पंत के साथ मिलकर दूसरे विकेट के लिए 54 रनों की साझेदारी की।

अय्यर लुंगी नगिदी की गेंद पर हटकर शॉट खेलने के प्रयास में 78 के कुल स्कोर पर बोल्ड हो गए। इसी ओवर में पंत भी पवेलियन लौट लिए। नगिदी की गेंद उनके बल्ले का ऊपरी किनारा लेकर थर्डमैन पर खड़े ब्रावो के हाथों में गई जिसे लपकने में उन्होंने कोई गलती नहीं की। पंत का विकेट 81 के कुल स्कोर पर गिरा। पंत ने 26 गेंदों में 38 रनों की पारी खेली जिसमें छह चौके और दो छक्के शामिल थे।

यह भी पढ़े: SC की सराहना करने वाले बयान पर भड़की भाजपा, कहा- जनादेश की हत्या कर रही कांग्रेस

यहां से दिल्ली की हालत खराब होती चली गई। मैक्सवेल (5) का बल्ला एक बार फिर शांत रहा और जडेजा ने उन्हें अपनी एक शानदार गेंद पर बोल्ड कर दिया। वह 94 के कुल स्कोर पर आउट हुए।

पिछले मैच में शानदार प्रदर्शन करने वाले युवा बल्लेबाज अभिषेक इस मैच में सिर्फ दो रन ही बना सके और 97 के कुल स्कोर पर ठाकुर की गेंद पर हरभजन सिंह के हाथों लपके गए। आउट होने से एक गेंद पहले ही रैना ने अभिषेक को जीवनदान दिया था जिसका वो फायदा नहीं उठा पाए।

यहां से शंकर और हर्षल ने टीम को संभाला और सम्मानजनक स्कोर प्रदान किया। दोनों ने आखिरी ओवर में 26 रन बटोरे। हर्षल ने आखिरी ओवर में तीन और शंकर ने एक छक्का लगाया। चेन्नई के लिए नगिदी ने दो विकेट लिए। जडेजा, ठाकुर और चहर को एक-एक सफलता मिली।

=>
LIVE TV