जिन्ना के ‘जिन्न’ मांग रहे आजादी, एएमयू की परीक्षाएं 12 मई तक स्थगित

अलीगढ़: पाकिस्तानी कायद-ए-आजम मुहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय( एएमयू )में मामला तूल पकड़ता नजर आया रहा है. ऐसा पहली बार नहीं है जबकि देश में ऐसे किसी मुद्दे पर सियासत का रंग गहराया हो. इससे पहले भी जे.एन.यू जैसे महनीय शिक्षण संस्थानों में आतंकवाद का पर्याय बन चुके अफजल गुरु की फांसी पर देश विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने की बात सामने आई थी.AMU

अब मुद्दा पाकिस्तान निर्माण में मुख्य भूमिका निभाने वाले एवं पाकिस्तान में राष्ट्रपिता की पदवी रखने वाले मुहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर का है जिससे विवाद खड़ा हो गया है.

एएमयू में जिन्ना की तस्वीर को लेकर प्रदर्शन कर रहे छात्रों का आजादी के नारे लगाने का एक वीडियो वायरल हुआ है हालांकि इस वीडियो का ऑडियो बहुत साफ नहीं है. एएमयू के प्रवक्ता प्रोफेसर शाफे किदवाई ने इस बारे में सफाई देते हुए बताया कि विश्वविद्यालय के बाब-ए-सैयद गेट पर अनिश्चितकालीन धरना दे रहे छात्र-छात्राएं ‘भगवा रंग‘ और ‘आतंक’ से आजादी के नारे लगा रहे हैं.

यह भी पढ़ें: इन 15 राज्यों में अगले 48 घंटे भारी, मौसम विभाग की रिपोर्ट से सरकार सतर्क

जिन्ना विवाद में दखल देते हुए केंद्रीय मंत्री वी. के. सिंह ने आज कहा कि पाकिस्तान के संस्थापक की तस्वीर को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में लगाने का समर्थन करने वाले मुसलमान अपने पूर्वजों का अपमान कर रहे हैं जिन्होंने जिन्ना की विचारधारा को ठुकरा दिया था. विदेश राज्यमंत्री ने सोशल मीडिया पर लिखे एक पोस्ट में कहा कि आज अपने पूर्वजों के कारण वे भारतीय हैं.

जिन्ना विवाद के बीच मणिशंकर अय्यर ने एक दिन पहले ही मोहम्मद अली जिन्ना की तारीफ की है. पाकिस्तान में उन्होंने जिन्ना को कायद-ए-आजम कहकर उनकी तारीफ की है. उन्होंने यह भी कहा कि वर्तमान की एनडीए सरकार ने हिंदुत्व की अवधारणा पेश की है, लेकिन इसका विरोध हो रहा है. अय्यर ने कहा कि उनको बताया गया कि कायद-ए-आजम जिन्ना की तस्वीर को उनके (सरकार) गुंडों ने एएमयू से हटवा दी है.

यह भी पढ़ें: कर्नाटक चुनाव : रामानगरम में कुमारस्वामी का गढ़ तोड़ना आसान नहीं, जानें राजनीतिक पेंच

जिन्ना विवाद के चलते एएमयू में होने वाली परीक्षाओं को कुछ दिन के लिए टाल दिया गया है. बीते कुछ दिनों से एएमयू में विरोध-प्रदर्शन चल रहा है. इसके चलते यह फैसला लिया गया है. एएमयू में पीआरओ उमर सलीम पीरजादा ने बताया कि सभी परीक्षाओं को 12 मई तक के लिए टाल दिया गया है जिससे कि अनुचित माहौल बनने से पहले और इस घटना के राजनीतिकरण से पहले लगाम लगाई जा सके जिससे जे.एन.यू जैसे माहौल को दोहराया न जा सके.

=>
LIVE TV