सदन में कई नेताओं का फूटा गुस्सा, निर्भया के दोषियों को मिली होती सजा तो नहीं होता हैदराबाद गैंगरेप!

संसद के शीतकालीन सत्र का आज 11 वां दिन चल रहा है. राज्यसभा में आज महिलाओं पर होने वाले अपराधों का मुद्दा उठेगा। साथ ही साथ प्याज और दाल के मूल्यों पर अचानक आई बढ़ोत्तरी का मुद्दा भी राज्यसभा में उठेगा। आपको याद दिलाते हुए इससे पहले संसद में भाजपा की सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के बयान को लेकर काफी हंगामा हुआ. हालांकि उन्होंने बाद में माफी भी मांगी। इस मसले को लेकर सदन में पक्ष और विपक्ष पर जोरदार हंगामा हुआ.

संसद के शीतकालीन सत्र

संजय सिंह, जया बच्चन और कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने जमकर महिला सुरक्षा के मुद्दे पर बात की। साथ दी दोषियों को कड़ी सजा हो इस बारे में भी बात की। जया बच्चन ने आगे कहा कि मैं कितनी बार इस मसले पर बोल चुकी हूं कि अब चुप रहने का नाम कुछ कर दिखाने का वक्त है। सरकार को अब कार्रवाई करनी चाहिए।

फर्रुखाबाद में घर में घुसने के आरोप में युवक की जमकर पिटाई, महिलाओं ने लगाया छेड़खानी का आरोप

एक दिन पहले ही हैदाराबाद में उसी जगह हादसा हुआ था। कुछ देशों में जनता दोषियों को सजा देती है. दोषियों को अब जनता ही सबक सिखाए.
गुलाम नबी आजाद ने भी सदन ने इस मामले पर कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने प्रश्नकाल के दौरान सदन में यह सवाल किया।
अब इन मुद्दों पर प्रश्नकाल में लोकसभा में बात चल रही है। पक्ष और विपक्ष के नेता इस मुद्दों पर जवाब मांगा है।

=>
LIVE TV