सचिन के दोहरे शतक पर ,अंपायर भी सोच में पड़ गए थे…

नई दिल्ली।मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने हमेशा से ही नए नए कीर्तिमान रचे है,साथ ही एक ऐसा रिकॉर्ड बनाया है जो सभी के लिए खास बन गया था हम बात कर रहे हैं वनडे में दोहरे शतक का. 2010 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ ग्वालियर में सचिन वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने की। साउथ अफ्रीका के तेज गेंदबाज डेल स्टेन  इस बात की पुष्टी की हैं कि उन्होने  मास्टर ब्लास्टर सचिन को 200 से पहले ही आउट कर दिया था, लेकिन अंपायर ने डर के कारण आउट नहीं होने दिया ।

क्रिकेट इतिहास के सबसे बेहतरीन तेज गेंदबाजों में से एक स्टेन ने कहा है कि उस मैच में उन्होंने सचिन को 190 रन के आस-पास आउट कर दिया था, लेकिन अंपायर इयान गोउल्ड ने फैसला उनके पक्ष में नहीं दिया।

कोरोना संकट:इस साल के अंत तक वैक्सीन का निर्माण,जानें पूरी खबर…

अंपायर को लग गया था डर-स्टेन ने ये बात स्काय स्पोर्ट्स के एक चैट शो में कही. इस शो में उनके साथ इस पीढ़ी के एक और बेहतरीन तेज गेंदबाज इंग्लैंड के जेम्स एंडरसन भी मौजूद थे, जहां दोनों ने अपने करियर पर बातें की. इस दौरान ग्वालियर वनडे के बारे में बात करते हुए स्टेन ने कहा, “तेंदुलकर ने ग्वालियर में हमारे खिलाफ वनडे क्रिकेट में पहला दोहरा शतक बनाया. मुझे याद है कि वह 190 के आस-पास थे, तब मैंने उन्हें LBW कर दिया था. इयान गोउल्ड उस वक्त अंपायर थे और उन्होंने नॉट आउट दिया था.”

स्टेन ने गोउल्ड से अपनी बातचीत को याद करते हुए बताया, “मैंने उनसे पूछा कि तुमने नॉट आउट क्यों दिया? वो सीधे सीधे आउट था. और उनका इशारा था- देखो दोस्त. अपने चारों ओर देखो. अगर मैंने आउट दिया तो मैं वापस अपने होटल नहीं लौट सकूंगा.”

सचिन को खराब गेंद नहीं डाल सकते

सचिन ने उस मैच में 200 रन बनाए और आखिर तक आउट नहीं हुए. भारत ने उस मैच में 401 रन बनाए और साउथ अफ्रीका को आसानी से हरा दिया।सचिन के बारे में बात करते हुए स्टेन ने कहा कि वो इतने शानदार थे कि आप उन्हें एक भी खराब गेंद नहीं डालना चाहते, क्योंकि वो आपको आसानी से चौका जड़ देते थे।

=>
LIVE TV