वाराणसी में कांग्रेस और विश्व हिंदू सेना के बीच छिड़ा पोस्टर वार, प्रियंका पर लगे गंभीर आरोप

REPORT-KASHI NATH/VARANASI

वाराणसी में एक बार फिर पोस्टर वार छिड़ गया है।पोस्टर के जरिये इस बार निशाना बनी हैं प्रियंका गांधी वाड्रा जिन्होंने कांग्रेस का नेतृत्व कर उसे नई दिशा देने की कोशिश की है। लेकिन हिन्दू संगठन उनसे नाराज़ दिख रहे हैं। कारण है उनका कोटा में जिस तरह से सैकड़ों बच्चों की मृत्यु हुई और उन्होंने उन बच्चों के लिए संवेदना प्रकट नही की और ना ही उन्हें देखने गए।

पोस्टर वार

विश्व हिंदू सेना के संस्थापक अध्यक्ष अरुण पाठक ने उनसे पोस्टर के माध्यम से सवाल किए हैं और उन्हें वाराणसी के कांग्रेस कार्यालय पर चस्पा किये हैं। सवाल पीछे गए हैं कि कोटा से दूरी आखिर क्या है मजबूरी? अरुण पाठक ने इस बाबत कहा कि प्रियंका जामिया मिलिया इस्लामिया चली जाती हैं, दंगाई के परिवार में चली जाती हैं ,उनसे गहरी संवेदना है लेकिन कोटा नही जाती हैं.

सहानुभूति के बहाने राजनीतिक उल्लू सीधा करना चाहती है प्रियंका-

जहां सैकड़ों बच्चों की मौत हुई है। क्या उनके परिवार में दर्द नही, क्या उन्हें सहानुभूति की आवश्यकता नहीं क्या सहानुभूति और संवेदना केवल जामिया मिलिया इस्लामिया में है क्या सहानुभूति और संवेदना केवल दंगा करने वाले मुस्लिम लड़के के घरवालों को है। इससे प्रतीत होता है कि प्रियंका केवल मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति कर अपना उल्लू सीधा करना चाहती हैं और जनता को बेवकूफ बना रही हैं। ऐसी मानसिकता वाली प्रियंका का हाल वही होगा जो सूर्पनखा का हुआ था।

लखनऊ बार एसोसिएशन की नवनिर्वाचित कार्यकारिणी की बैठक हुई सम्पन्न

एकबार फिर अरुण पाठक ने जनता से अपील की है कि CAA में विरोध करने के लिए कुछ भी नहीं है। ये कांग्रेस द्वारा रचित एक साजिश है जिससे देशभर में दंगे हुए फसाद हुए। कांग्रेस जनता को सीधे तौर पर बरगला कर अपना राजनैतिक रोटियां सेंक रही है।मुसलमानों को CAA के नाम पर भड़काया गया। अब उन्हें भी CAA का मतलब समझ मे आने लगा है और परत दर परत साफ हो रही है। लोग कांग्रेस की चाल समझने लगे हैं। प्रियंका के इस रोल से हिन्दू काफी नाराज हैं।

=>
LIVE TV