लॉकडाउन-4 के खत्म होने से पहले ही आगे बढ़ाई गई तारीख….

स्कूल और कॉलेज समेत अन्य शिक्षण संस्थाओं में दो महीने से भी ज्यादा समय से पढ़ाई बंद है. वजह है चीन के वुहान शहर से निकली जानलेवा महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus). इसी कारण स्टूडेंट्स ऑनलाइन स्टडी को तवज्जो दे रहे हैं. हालांकि देश के अलग-अलग हिस्सों में स्कूलों को दोबारा खोलने पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है, लेकिन इसी बीच गृह मंत्रालय ने बयान जारी कर ये भी साफ कर दिया कि उसकी ओर से स्कूल और कॉलेज खोलने की अनुमति नहीं दी गई है. हालांकि अब एक अन्य राज्य ने स्कूल खोलने को लेकर अहम फैसला किया है.

सोशल डिस्टेंसिंग समेत बरती जाएगी पूरी एहतियात
दरअसल, स्कूल (School) बंद होने से बच्चों की पढ़ाई पर गहरा असर पड़ रहा है. ऐसे में अधिकतर राज्यों ने सोशल डिस्टेंसिंग समेत सारी जरूरी एहतियात बरतते हुए स्कूलों में दोबारा पढ़ाई शुरू कराने का फैसला किया है. दिल्ली सरकार ने भी इसके लिए अभिभावकों, टीचर्स और छात्र व छात्राओं से सुझाव भी मांगे हैं.

अम्फान ने पहुंचाया नुकसान

अब पश्चिम बंगाल सरकार ने लॉकडाउन और तूफान अम्फान के चलते स्कूलों को बंद रखने की तारीख को बढ़ा दिया है. राज्य सरकार ने अब ऐलान किया है कि पश्चिम बंगाल के स्कूल 30 जून तक बंद रखे जाएंगे. पहले ये समयसीमा 10 जून तक तय की गई थी. राज्य के शिक्षा मंत्री पार्था चटर्जी ने बताया कि साइक्लोन अम्फान के चलते आठ जिलों में स्कूल की इमारतों को भारी क्षति पहुंची है. यहां तक कि इस बात की भी संभावना है कि कई स्कूल की इमारतों को क्वारंटाइन सेंटर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है.

12वीं की परीक्षा के आयोजन की तैयारी
जहां तक पश्चिम बंगाल बोर्ड एग्जाम (West Bengal Board Exam) की बात है तो 12वीं क्लास के बचे हुए एग्जाम 29 जून, 2 जुलाई और 6 जुलाई को आयोजित किए जाएंगे. पार्था चटर्जी के अनुसार, वेस्ट बंगाल काउंसिल आफ हायर सेकेंडरी एजुकेशन से कहा गया है कि वो राज्य के 1058 परीक्षा केंद्रों पर एग्जाम आयोजित कराने के लिए समुचित कदम उठाए. अगर जरूरत पड़ी तो परीक्षाएं आयोजित करने के लिए कुछ कॉलेजों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है. अम्फान ने राज्य के 462 परीक्षा केंद्रों को भारी क्षति पहुंचाई है.

=>
LIVE TV