ये हैं कलयुगी गुरुजी का शासन, परीक्षा के दिन यह काम करते आए नजर…

नैनीताल जिले में ओखलकांडा के डालकन्या प्राथमिक जूनियर हाईस्कूल में तैनात एक गुरुजी सोमवार सुबह काफी देर तक सोये मिले, इस कारण स्कूली बच्चों की वार्षिक परीक्षा दो घंटे देरी से शुरू हो पाई। हालांकि, शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने शिक्षक की तबीयत खराब होने से परीक्षा आधे घंटे देरी से शुरू होने की बात कही है।

परीक्षा

डालकन्या के अभिभावक दीपक पनेरू, सुरेश पनेरू, सतीश पनेरू ने बताया कि सोमवार सुबह दस बजे से कक्षा एक से आठ तक के बच्चों की संस्कृत विषय की परीक्षा थी। बच्चे तय समय पर स्कूल पहुंच गए थे, लेकिन स्कूल में तैनात तीन में से एक भी शिक्षक नहीं पहुंचे थे। एक शिक्षक का कमरा स्कूल के पास ही है।

शिक्षक ने दरवाजा नहीं खोला तो दरवाजा तोड़ दिया

इस पर अभिभावक शिक्षक के कमरे के पास पहुंचे, वहां देखा तो शिक्षक का कमरा अंदर से बंद था। काफी देर खटखटाने पर भी जब शिक्षक ने दरवाजा नहीं खोला तो उन्होंने दरवाजा तोड़ दिया। अभिभावकों ने बताया कि शिक्षक सोये मिले, उन्हें जगाया गया। इस कारण सुबह दस बजे से होने वाली परीक्षा दो घंटे देरी से दोपहर 12 बजे शुरू हो पाई। इस पर अभिभावकों ने कड़ी नाराजगी भी जताई।

बीते दो सालों से इंटर्न महिला का यौन शोषण कर रहा था संपादक, तंग आकर महिला ने उठाया ऐसा कदम…

मामला संज्ञान में है, लेकिन उक्त शिक्षक की तबीयत खराब होने से वह कमरे में सोये रहे। बाद में पटवारी और अन्य स्टाफ को भेजकर उन्हें उठाया गया और सुबह 10.30 बजे से परीक्षा शुरू करा दी गई थी। इसके अलावा अन्य दो शिक्षकों के जाम में फंसने से उन्हें स्कूल पहुंचने में 15 मिनट की देर हुई थी।

 

=>
LIVE TV