मेरठ और आसपास के जिलों में सड़कों पर पसरा सन्‍नाटा, बेवजह घरों से निकलने पर कटेगा चालान

प्रदेश सरकार द्वारा घोषित शुक्रवार रात 10 बजे से सोमवार सुबह 5 बजे कर 55 घंटे का साप्ताहिक लॉकडाउन शुक्रवार रात से शुरू हो गया। मेरठ और आसपास के जिलों में शनिवार की सुबह से ही सड़कों पर सन्‍नाटा पसरा नजर आया। पुलिसकर्मी जगह जगह मुस्‍तैदी के साथ मौजूद रहे। जहां पर जो भी बेवजह घूमता दिखाई दिखा, उसका चालान काटा गया।

ऐसे लोगों को सख्‍त हिदायत भी दी जा रही है। वरिष्‍ठ अफसरों ने सड़कों पर खुद उतर सारी व्‍यवस्‍थाओं को जांचा परखा। शुक्रवार को सीएम की ओर से दिए गए निर्देशों को ध्‍यान में रखते हुए पूरे वेस्‍ट यूपी में लॉकडाउन का सख्‍ती के साथ पालन कराया जा रहा है। सभी जिलों में बाजारों को पूर्ण रूप से बंद देखा जा रहा है। केवल दवा और दूध की ही दुकानें ही खुली थी। बेहद जरूरी होने पर घर से निकलने के कहा गया है।

रात में आठ बजे से ही छाया सन्‍नाटा

हालांकि मेरठ में तो रात आठ बजे से ही नाइट कफ्र्यू लागू होने के कारण सड़कों पर सन्नाटा छा गया लेकिन पुलिस रात में ही बैरियरों पर तैनात होकर चेकिंग में जुट गई थी। अब दो दिन जनता को घर में ही रहना होगा। सभी बाजार बंद रहेंगे। केवल दवा और दूध की दुकानें ही खुल सकेंगी। बैंक खुलेंगे लेकिन वे जनता का काम नहीं करेंगे। पहले सप्ताह दो दिन का लॉकडाउन सफल होने के बाद प्रदेश सरकार ने अब प्रत्येक सप्ताह 55 घंटे का लॉकडाउन रखने की घोषणा की है। इसी के तहत बाजारों को अब सप्ताह में पूरे पांच दिन खोलकर दो दिन बंद रखने का निर्णय लिया गया है। सरकार के आदेश के तहत शुक्रवार रात दस बजे लॉकडाउन शुरू हो गया। मेरठ में रात 8 बजे से नाइट कफ्र्यू शुरू हो जाता है लिहाजा यहां 8 बजे ही सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। इसके बावजूद भी सख्त आदेश के चलते पुलिस बल शहर में बने 94 बैरियरों पर अपनी ड्यूटी पर तैनात हो गया। प्रत्येक वाहन की चेङ्क्षकग का काम शुरू किया गया। अब शनिवार और रविवार दो दिन सभी लोगों को घर में ही रहना होगा। केवल दवा और दूध की दुकान खुल सकेगी। जिलाधिकारी अनिल ढींगरा ने लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने का निर्देश सभी मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारियों को दिया है।

=>
LIVE TV