मुंबई की 3 सालों में तीसरा बड़ा हादसा, रेलवे अधिकारियों पर केस दर्ज

मुंबई पुलिस ने इस हादसे में रेलवे और बीएमसी अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज किया है. ये केस आज़ाद मैदान पुलिस स्टेशन में दर्ज किया गया है.

मुंबई

कसाब पुलके नाम से था मशहूर

प्रसिद्ध सीएसएमटी स्टेशन के पास स्थित इस पुल को आम तौर पर ‘कसाब पुल’ के नाम से जाना जाता है क्योंकि 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले के दौरान आतंकवादी इसी पुल से गुजरे थे. एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि जब पुल ढहा तब पास के सिग्नल पर लाल बत्ती के चलते ट्रैफिक रुका हुआ था और इसी कारण ज्यादा मौतें नहीं हुई.

आज का राशिफल- 15 मार्च 2019, शुक्रवार

सरकार ने अभी तक क्या किया?

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस ने मृतकों के परिजन के लिए पांच-पांच लाख रुपये की अनुग्रह राशि की घोषणा की है. इसके अलावा 40 साल पुराने इस पुल के गिरने की जांच एक उच्चस्तरीय समिति करेगी. घायलों को 50-50 हजार रुपये की सहायता राशि दी जाएगी, उनके इलाज का खर्च सरकार वहन करेगी. हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रेल मंत्री पीयूष गोयल और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने दुख जताया है.

कब और कैसे हुआ हादसा?

आपको बता दें कि दक्षिणी मुंबई में एक रेलवे स्टेशन के पास गुरुवार शाम करीब 7 बजे फुट ओवर पुल का बड़ा हिस्सा ढह जाने से 6 लोगों की मौत हो गई जबकि 32 अन्य घायल हो गए. जब ब्रिज गिरा था तो वहां पर कई लोग मौजूद थे. इसके अलावा कई गाड़ियां भी ब्रिज के नीचे मौजूद थीं

मुंबई पुल हादसे में 6 की मौत

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई एक बार फिर हादसे का शिकार हुई है. गुरुवार शाम मुंबई के CST रेलवे स्टेशन के पास फुटओवर ब्रिज गिर गया. इस हादसे में 3 महिलाओं समेत कुल 6 लोगों की मौत हो गई है. अभी भी 30 से अधिक लोग घायल हैं. हादसे के बाद सरकार की ओर से मुआवजे का ऐलान हो गया है, हालांकि इसपर शाम से ही राजनीति भी जारी है. बीएमसी और रेलवे के बीच पुल की देखरेख को लेकर एक दूसरे पर आरोप लगाने का सिलसिला जारी है.

 

=>
LIVE TV