मुंगेर में मूर्ति विसर्जन के दौरान हुए बवाल के खिलाफ सड़क पे उतरे लोग,पुलिस जीप फूंकी; डीएम व एसपी तत्काल प्रभाव से हटाए गए

बिहार के मुंगेर में मंगलवार को मूर्ति विसर्जन के दौरान हुए हंगामे की कोलाहल अभी तक  सुनाई दे रहीं हैं। स्थानीय लोगों में मंगलवार को हुए इस घटना को लेकर अभी भी आक्रोश बना हुत्व है। गुरूवार को मुंगेर में स्थिति उस समय चिंताजनक हो गयी जब जब गुस्साई भीड़ ने शहर में हंगामा किया और पुलिस की कई  गाड़ियों में आग लगा दी।इतना ही नहीं उग्र भीड़ ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर जमकर पथराव किया।

उधर दूसरी तरफ जिले की स्थिति को देखते हुए चुनाव आयोग ने सख्त कदम उठाया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए चुनाव आयोग ने मुंगेर के जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक को हटा दिया है। आज ही नए जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक की तैनाती की जाएगी।

वहीँ घटना को लेकर बिहार चुनाव आयोग के सीईओ ने ट्वीट कर बताया कि मुंगेर  की एसपी और डीएम को तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया है। उन्होंने लिखा, ‘मुंगेर में मौजूदा स्थिति के मद्देनजर,चुनाव आयोग ने एसपी और डीएम मुंगेर को तत्काल हटाने का आदेश दिया है। आयोग ने श्री असंगबा चुबा एओ, मंडल आयुक्त, मगध द्वारा पूरी घटना की जांच करने का आदेश दिया है। जिसे अगले सात दिनों के भीतर पूरा किया जाना है।

स्थानीय लोगों की मांग थी कि मुंगेर की पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह के खिलाफ मंगलवार की घटना को लेकर तुरंत कार्यवाई की जाए। बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान से ठीक एक दिन पूर्व हुई इस घटना ने राजनीतिक रंग लेना शुरू कर दिया है। राजद नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने तो मुंगेर की एसपी लिपि सिंह को जनरल डायर की संज्ञा तक डी डाली है। 

उल्लेखनीय है कि दशहरे की रात मूर्ति विसर्जन के दौरान पुलिस और आम लोगों के बीच पहले विवाद हुआ एवं उसके बाद वहाँ जमकर हंगामा हुआ था। पुलिस को गोलियां तक चलानी पड़ी थी। पुलिस की गोलीबारी में एक युवक की मौत हो गयी थी व् अन्य कई बुरी तरह जख्मी हो गए थे।

=>
LIVE TV