बिहार में उद्घाटन से पहले टूटा करीब चार सौ करोड़ से बना बांध

बिहारबिहार। भागलपुर में करोड़ों रुपए की लागत से बना गंगा पंप नहर योजना के बांध उद्घाटन से पहले ही टूट गए हैं। जिसके चलते आसपास के इलाके जलमग्न हो गए हैं। बांध की दीवार टूटने के चलते यह बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की इस महात्वाकांक्षी योजना के उद्घाटन कार्यक्रम रद्द कर दिया है।

भागलपुर जिले के बटेश्वरस्थान में गंगा नदी पर 389.31 करोड़ रुपए की लागत से बिहार और झारखंड़ के किसानों को सिंचाई के लिए पानी व्यवस्था करने के लिए इस बांध को तैयार किया गया है।

बुधवार को इस बांध का उद्घाटन होना था। मंगलवार को ट्रायल रन के दौरान स्विच आन किए जाने पर पानी के अत्यधिक दबाव के कारण इस योजना के बांध की एक दीवार टूट गई।

इस परियोजना के बांध के टूटने पर ​प्रदेश की मुख्य विपक्षी पार्टी राजद को नीतीश सरकार के खिलाफ हथियार मिल गया और राजद कार्यकर्ताओं ने इसमें भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए भागलपुर में मुख्यमंत्री और जल संसाधन मंत्री का पुतला दहन किया।

यह भी पढ़ें : योगी सरकार के 6 महीने पूरे, सफलता या विफलता की हकीकत, जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

राजद के पीरपैंती से विधायक रामविलास पासवान ने पत्रकारों से कहा कि करोडों रुपए के सृजन घोटाले के बाद भागलपुर में एक नया ‘घोटाला’ सामने आया है।

भागलपुर से प्राप्त जानकारी के मुताबिक बांध के टूटने पानी के बहाव से कहलगांव, एनटीपीसी टाउनशिप के साथ आम नागरिक इलाके और कहलगांव के सिविल जज और सब जज के आवास में पानी प्रवेश कर गया।

जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव अरूण कुमार सिंह, भागलपुर के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक के साथ मिलकर जिन इलाकों में पानी फैला है उसे निकाले जाने की निगरानी कर रहे हैं। .

अरूण सिंह ने बताया कि पानी के बहाव को रोकने के बालू भरे बोरे रखे जा रहे हैं। कहलगांव उक्त परियोजना स्थल से तीन किलोमीटर की दूरी पर है।

बिहार और झारखंड की इस साझा परियोजना के जरिए भागलपुर में 18620 हेक्टेयर तथा झारखंड के गोड्डा जिला की 4038 हेक्टयर भूमि सिंचित होगी।

इस परियोजना द्वारा 27603 हेक्टेयर भूमि को सिंचित किया जा सकता है जिसमें से 22816 हेक्टयर बिहार एवं 4887 हेक्टेयर झारखंड के भूखंड शामिल हैं।

=>
LIVE TV