बच्चों से यौन अपराध पर सुप्रीम कोर्ट हुआ सख्त , रंजन गोगोई ने मांगे आंकड़े…

बच्चों से हो रहे यौन अपराधों पर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने चिंता जताई है. जहां चीफ जस्टिस रंजन गोगोई का कहना हैं की ये एक चिंताजनक विषय हैं वहीं सुप्रीम कोर्ट के आदेश और दिशा- निर्देश के बाद भी पर्याप्त इंतजाम नहीं किए गए हैं.

 

 

बतादें की सुप्रीम कोर्ट ने एमिकस (न्याय मित्र) को कहा कि यौन अपराधों से पीड़ित बच्चों को न्याय दिलाने के लिए क्या कर सकते हैं. वहीं इस विषय को लेकर एमिकस ने का कहना हैं की पॉस्को की स्पेशल कोर्ट की स्थापना और स्पेशल ट्रेंड सरकारी वकीलों से ही बदलाव होगा. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जो आंकड़े हमें मिल रहे हैं, वो पहली जनवरी से 30 जून तक के हैं. इससे पहले के आंकड़े और ज्यादा होंगे.

यूपी के कई जिलों के अस्पतालों की हालत गंभीर, नर्स के इंजेक्शन लगाने से मचा बवाल

वहीं हमें यौन अपराध से पीड़ित बच्चों का जिलावार आंकड़ा चाहिए. साथ ही हमें फोरेंसिक लैब, जांच की प्रक्रिया, पीड़ित बच्चे का बयान दर्ज कराने का विस्तृत ब्योरा चाहिए.

दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने रजिस्ट्री से जिलावार बच्चों से दुषकर्म के मामले और कुल लंबित मामलों की संख्या का ब्योरा मांगा और साथ ही ये भी जानकारी चाही कि कितने मामले कितने साल से लंबित हैं. सुप्रीम कोर्ट ने रजिस्ट्री से कहा कि सभी राज्यों के जुवेनाइल जस्टिस कमेटी से 10 दिनों में ब्योरा लें. मामले की अगली सुनवाई 25 जुलाई को होगी.

 

 

=>
LIVE TV