पुल के निर्माण के लिए आधुनिक तकनीक के इस्तेमाल पर जोर दे रहे डिप्टी चीफ मिनिस्टर केशव प्रसाद मौर्य

डिप्टी चीफ मिनिस्टर केशव प्रसाद मौर्य अब राज्य में पुल के निर्माण के लिए आधुनिक टेक्नोलॉजी के उपयोग पर जोर दे रहे हैं. उन्होंने प्रदेश सेतु निगम के अफसरों को साफ़ निर्देश दिये हैं कि पुलों, रेल उपरिगामी सेतुओं तथा फ्लाई ओवरों के निर्माण में नई तकनीक का उपयोग करने के साथ सुरक्षा मानकों का खास ख्याल रखा जाए. भविष्य को देखते हुए सिंगल पिलर पर चार लेन के सेतु बनाने के लिए अभी से कार्ययोजना बनाने के आदेश दिए. 

आगे उन्होने कहा कि जहां निर्माण काम चल रहें हों, वहां बैरीकेडिंग तथा लाइटिंग के साथ लोगों की आवाजाही के लिए सर्विस रोड अवश्य बनाई जाए. वही पब्लिक वर्क्स डिपार्टमेंट हेडक्वार्टर्स के तथागत सभागार में ऑर्गनाइस उच्चस्तरीय मीटिंग में सेतु निगम के कार्यों की प्रगति की समीक्षा के चलते उन्होंने रेल उपरिगामी सेतुओं के शेष कार्यों को रेलवे के उच्च अफसरों से बातचीत कर सेतु निगम को स्वयं पूर्ण कराने के लिए कहा है. 

फ्लाई ओवरों के निर्माण में व्यू कटर लगाने के लिए कहा. बड़े कस्बों तथा जिलों में बने आरओबी के नीचे रेलवे के फाटकों के समीप छोटी गाड़ियों के निकलने के लिए सर्विस रोड एवं आवाजाही की सुविधा विकसित करने का निर्देश दिया. फ्यूचर में बनाये जाने वाले बड़े पुलों में सेंसर लगाने के लिए प्रोजेक्ट के एस्टीमेट में इसके इंतजाम करने का निर्देश दिए. डिप्टी चीफ मिनिस्टर ने निर्देश दिये कि पब्लिक वर्क्स डिपार्टमेंट की प्रकार सेतु निगम टोल फ्री नंबर एवं व्हाट्सप्प नम्बर जारी करें, जिन पर जनता की कम्प्लेन एवं सुझाव लिये जा सकें, तथा मिलने वाली शिकायतों का निराकरण निर्धारित किया जाए. इसके साथ ही आधुनिक टेक्नोलॉजी पर अधिक जोर दिया जा रहा है. 

=>
LIVE TV