पुतिन की भारत यात्रा पर अमेरिका ने दिखाया कड़ा रूख, चीन और पाकिस्तान भी नहीं चाहते ऐसा हो

नई दिल्‍ली। पुतिन भारत की यात्रा करके इस देश को और भी शक्तिशाली बनाने की बात कह रहे हैं। लेकिन व्लादिमीर पुतिन की भारत यात्रा पर चीन,पाकिस्‍तान और अमेरिका समेत दुनिया की नजरें हैं। बता दें पुतिन की इस से दोनों देशों के बीच एस-400 वायु प्रतिरक्षा प्रणाली सौदे पर करार होना है। यह करार पांच अरब डॉलर की राशि से ज्यादा का होगा।

अगर यह सौदा हुआ तो देश की प्रतिरक्षा कवच और सुदृढ़ और अभेद्य हो जाएगी। इससे कहीं न कहीं पड़ोसी मुल्‍क कमजोर होंगे। इसी बात को देखते हुए अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने बुधवार को कहा कि हम अपने सभी सहयोगियों और साझेदारों को रूस के साथ व्यापार न करने का अनुरोध कर चुके हैं। अगर ऐसा नहीं होता है तो सहयोगी देशों पर सीएएटीएसए के तहत प्रतिबंध लगाए जाएंगे।

इस डिफेंस सिस्‍टम से भारत की सुरक्षा निगरानी बेहद मजूबत हो जाएगी। भारतीय सेना दुश्‍मन की हर गतिविधियों पर पैनी नजर रख सकेगी। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि महज तीन एस-400 ट्रायम्‍स से पाकिस्‍तान के चप्‍पे-चप्‍पे पर सेना के जवान नजर रख सकेंगे। इसकी सूचना से पाकिस्‍तान के हर हमले को प्रहार के पूर्व ही विफल किया जा सकता है। उसके लड़ाकू विमानों और ड्रोन्‍स को आसानी को आसानी से गिराया जा सकता है।

दिनों दिन बढ़ रहा लीन बॉडी बनाने का क्रेज, रोज करें ये एक्सरसाइज

दरअसल, एस-400 लंबी दूरी का जमीन से हवा में मार करने वाला एक मिसाइल सिस्टम है, जिसे रूस ने बनाया है। ये एस-300 का अपडेटेड वर्जन है। यह रडार दुश्‍मन की हर गतिविधि पर नजर रखने में सक्षम है। यह एक साथ 100 से 300 लक्ष्‍यों को ट्रैक कर सकता है। यानी एस-400 ट्रायम्‍फ मिसाइल एक साथ 100 हवाई खतरों को भांप सकता है और अमेरिका निर्मित एफ-35 जैसे 6 लड़ाकू विमानों को दाग सकता है।

राम मंदिर न बनने पर आत्मदाह करने की धमकी देने वाले महंत परमहंस दास हिरासत में लिए गए

यह सिस्‍टम मोबाइल कमांड सेंटर से लैस है। इसके चलते कमांड पोस्‍ट पर तैनात हथियार परिचालक अपने साथी सुरक्षाकर्मी से वार्ता कर सकते हैं। इसका फायर कंट्रोल रडार तत्‍काल फैसला लेने में मददगार होता है। लक्ष्‍य सुनिश्चित होने पर कमांड सेंटर फायर कंट्रोल रडार को मिसाइल लांच करने के आदेश देता है। इसकी रफ्तार 17000 किलोमीटर प्रति घंटा है। इस मिसाइल की रफ्तार वर्तमान में मौजूदा किसी भी विमान से ज्‍यादा है। ऐसी तमाम तकनीकियां इसमें मौजूद है।

=>
LIVE TV