अब समर्थकों ने भी छोड़ा भाजपा का हाथ, नोटबंदी को बताया व्यापार विरोधी  

नोटबंदी व्यापार विरोधीआगरा। नोटबंदी के फैसले से भाजपा समर्थित व्यापारियों पर भी ख़ासा असर पड़ रहा है और वह भी इस फैसले से नाखुश नज़र आ रहे हैं। ऐसा कहना है समाजवादी पार्टी व्यापार सभा के अध्यक्ष और यूपी के वाणिज्यकर के सलाहकार सुरेन्द्र मोहन अग्रवाल का। सपा व्यापार सभा का अध्यक्ष बनने के बाद सुरेन्द्र पहली बार आगरा आए। यहां उन्होंने कहा कि नोटबंदी व्यापार विरोधी है। साथ ही इसके विरोध में प्रदर्शन करने की भी बात कही।

नोटबंदी व्यापार विरोधी  

ख़बरों के मुताबिक़ सुरेन्द्र मोहन अग्रवाल ने केंद्र सरकार द्वारा की गयी नोटबंदी का जमकर विरोध किया। इस दौरान उन्होने कहा कि बीजेपी समर्थित व्यापारी भी नोटबंदी की समस्या से परेशान है उनका भी व्यापार चौपट हो रहा है।

उन्होंने कहा कि आका(पीएम मोदी) के डर से वे कुछ कह नही पा रहे है। लेकिन अंदर ही अंदर कराह रहे है।

इस दौरान उन्होने कहा कि केंद्र सरकार की सारी नीतियां व्यापारी विरोधी है। नोटबंदी के प्रभाव से फैक्ट्री बंद हो रही हैं और व्यापार चौपट, पैसों के लिए देश लाईन में खड़ा है। मजदूर बेरोजगार हो रहा है।

उनका मानना है कि अगर यही हालत रही तो आने वाले दिनों में लूट और डकैती के हालात पैदा हो जाएंगे। साथ ही बीजेपी के हाथ से व्यापारियों का बड़ा वोट बैंक निकल जाएगा। भले चाहे वो उनके समर्थक ही क्यों न रहे हों।

अग्रवाल ने कहा कि नोटबंदी से केंद्र सरकार अब कैशलैस की ओर आ गयी है। कैशलेश का खेल खत्म हो गया है। अब बैंक और एटीएम कैशलैश हो गए है।

समाजवादी पार्टी व्यापार सभा आने वाले दिनों में केंद्र सरकार की नोटबंदी का प्रदेशभर में विरोध करेगी और सरकार से इस फैसले को वापस लेने की मांग रखेगी।

=>
LIVE TV