Saturday , June 24 2017

नकली शराब फैक्ट्री में छापेमारी, पांच लोग गिरफ्तार

नकली शराब फैक्ट्रीदेहरादून। लालतप्पड़ में आबकारी विभाग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए नकली शराब फैक्ट्री में छापेमारी की । इस दौरान टीम ने 27 सौ लीटर शराब के साथ नकली होलोग्राम और उत्तराखंड के लेबल भी बरामद किए हैं। साथ ही पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। जिला आबकारी अधिकारी पवन कुमार के नेतृत्व में टीम ने मुखबिर की सूचना पर सोमवार शाम पांच बजे लालतप्पड़ में एक फैक्ट्री में छापेमारी की।

फैक्ट्री में अवैध रूप से शराब बनाई जा रही थी। छापेमारी में करीब 2700 लीटर कच्च माल बरामद हुआ। मौके पर नकली होलोग्राम और उत्तराखण्ड के लेबल भी मिले। इसके अलावा हरियाणा नबंर की इंडिको कार और दिल्ली की नंबर प्लेट लगी कोरोला गाड़ी को टीम ने जब्त कर लिया। नकली शराब रॉयल स्टैग, ब्लेंडर प्राइड की बोतलों में भरी जानी थी। खाली बोतलें हरियाणा से मंगाई गईं थीं, जो मंगलवार को फैक्ट्री में पहुंचनी थीं। इस दौरान पकड़े गए लोगों में चार मुजफ्फरनगर और एक पंचकुला का है। सभी पांचों आरोपियों को मंगलवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। इनके खिलाफ धारा 60 और 72 में मुकदमा दर्ज किया गया है।

आबकारी निरीक्षक ऋषिकेश नीलम राणा ने बताया कि मुखबिर से फैक्ट्री में नकली शराब बनाने की सूचना मिली थी। जिसपर सोमवार को छापेमारी की योजना बनाई गई। पकड़े गये आरोपी गौतम जैन पुत्र अशोक जैन एम-62पीजीआई सोसायटी सेक्टर पंचकुला हरियाणा, योगेश पुत्र सुभाष और प्रवीन पुत्र शिवकुमार दोनों निवासी तारपुर,शामली जिला मुजफ्फरनगर, राजीव कुमार पुत्र सुरेशचन्द्र , अब्दुल्लापुर गांव, शामली, विरद पुत्र चन्द्रपाल निवासी लालूबेडी, थाना तिलावी, जिला मुजफ्फनगर के रहने वाले हैं। आरोपियों को डोईवाला पुलिस को सौंप दिया है। जिन्हें मंगलवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। टीम में आबकारी निरीक्षक रमेश बंगवाल, ज्योति वर्मा, कैलाश बिंजोला आदि शामिल थे।

लालतप्पड़ में पकड़ी अवैध शराब फैक्ट्री से बरामद होलोग्राम असली लग रहे हैं। अपर सचिव व आयुक्त (आबकारी) युगल किशोर पंत ने अफसरों के साथ फैक्ट्री का मुआयना किया है। खबर के मुताबिक फैक्ट्री में जो होलोग्राम मिले हैं, वैसे ही होलोग्राम पिछले साल शराब की बोतलों पर लगते थे। आबकारी विभाग के अफसर इसकी पड़ताल में जुट गए हैं।

इस संबंध में अल्फाज टेक कंपनी के अफसरों से बात की जाएगी। पिछले साल इसी कंपनी को होलोग्राम बनाने का ठेका मिला था। बताया जा रहा है ति लालतप्पड़ में शराब बनाने के बाद इसकी आपूर्ति जंगल से टिहरी, उत्तरकाशी, पौड़ी, चमोली, रुद्रप्रयाग जाने वाले जंगल के रास्तों से होनी थी। इसके अलावा ऋषिकेश, देहरादून और हरिद्वार के लिए भी लालतप्पड़ से एकांत वाले रास्ते जाते हैं। इन रास्तों से रात को तैयार शराब की खेप पहुंचाने की योजना थी।

LIVE TV