दुनिया के सबसे बड़े विमान ने सफलतापूर्वक किया ये कारनाम!…

दुनिया के सबसे बड़े विमान ने अमेरिका के कैलिफोर्निया में पहली बार परीक्षण के लिए उड़ान भरी। इस विमान में छह बोइंग 747 इंजन लगे हैं और यह इतना बड़ा है कि इसके पंखों का फैलाव एक फुटबॉल मैदान से भी ज्यादा है।

विमान का निर्माण करने वाली कंपनी स्ट्रेटोलॉन्च ने बताया कि शनिवार को दोहरे डिजाइन वाले विमान ने शनिवार सुबह 6.58 बजे (स्थानीय समयानुसार) मोजेव एयर एंड स्पेस पोर्ट से सफलतापूर्वक उड़ान भरी। इस दौरान अधिकतम 189 मील (302.4 किलोमीटर) प्रति घंटे की गति को प्राप्त करते हुए विमान ने मोजेव रेगिस्तान में 17,000 फीट की ऊंचाई पर 2.5 घंटे तक उड़ान भरी।

राफेल के कारण इस छत्तीसगढ़ के गाँव को रही परेशानी! जानिए वजह…

सफल परीक्षण के बाद कंपनी के सीईओ जीन फ्लॉयड ने कहा, ‘पहली उड़ान कितनी शानदार रही। यह सफलता ग्राउंड लॉन्च सिस्टम का एक लचीला विकल्प प्रदान करने के हमारे मिशन को आगे बढ़ाएगी। हमें इसे बनाने वाली टीम, फ्लाइट दल और हमारे सहयोगियों पर बेहद गर्व है।’ इस बीच, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने भी विमान की सफल उड़ान को मील का पत्थर करार दिया।

नासा के वैज्ञानिक थॉमस जुर्बुचेन ने कहा कि यह अंतरिक्ष के छोर तक और उससे भी परे जाने जैसा है। काश पॉल एलन यह देख पाते। गौरतलब है कि माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक दिवंगत पॉल एलन ने बड़े वाहक विमान को ऑर्बिटल क्लास रॉकेट के लिए उड़ान लॉन्च पैड के रूप में विकसित करने के उद्देश्य से 2011 में स्ट्रेटोलॉन्च की स्थापना की थी।

अंतरिक्ष में रॉकेट ले जाने और छोड़ने में इस्तेमाल

इस विमान का निर्माण अंतरिक्ष में रॉकेट ले जाने और उसे वहां छोड़ने के लिए किया गया है। दरअसल, यह रॉकेट उपग्रहों को अंतरिक्ष में उनकी कक्षा तक पहुंचाने में मदद करेगा। मौजूदा समय में टेकऑफ रॉकेट की मदद से उपग्रहों को कक्षा में भेजा जाता है। इसके मुकाबले उपग्रहों को कक्षा तक पहुंचाने में यह विकल्प ज्यादा अच्छा रहेगा।

खासियत

5 लाख पौंड है विमान का वजन
238 फीट है विमान की लंबाई
385 फीट है पंखों का फैलाव

=>
LIVE TV